जुगरान ने पूर्व डी जी पी सिद्धू को बताया टिकट ब्लैकमेलर

0
426

जुगरान ने पूर्व डी जी पी सिद्धू को बताया टिकट ब्लैकमेलर
देहरादून उत्तराखंड के विवादित पुलिस महा निदेशक रहे बी एस सिद्धू पर भाजपा नेता ने बड़ा हमला किया है यही नहीं रवीन्द्र जुगरान ने कहा की राज्य में विवादित डी जी पी के खिलाफ कोई कारवाही नहीं की यही नहीं विधायिका ने भी अपना फ़र्ज़ नहीं निभाया उन्होंने कहा की राज्य में कांग्रेस की सरकार ने सिद्धू को अभय दान दिए रखा और राज्य में पद की गरिमा को ठेस पहुंचाई जाती रही जुगरान ने कहा की सिद्धू के खिलाफ कारवाही को लेकर वो राजयपाल से लेकर केंद्र सरकार को जल्द पत्र लिख कर कारवाही की मांग करेंगे उन्होंने कहा की चार सालो तक विवादित अधिकारी अपने पद पर बना रहा और कोई कारवाही नहीं हुई जो साबित करती है की कांग्रेस का सिद्धू को आशीर्वाद था
जुगरान ने ये भी कहा की मामला कोर्ट में भी गया लेकिन वहाँ भी कोई कारवाही नहीं हुई बल्कि जाँच सी बी आई से की जानी जरुरी थी यही नहीं उन्होंने कहा की सिद्धू पहले से ही विवदित रहे है और पूर्व में रेलवे के समय उन पर कारवाही को लेकर जाँच भी हुई थी और ये बात भी साबित हुई थी सिद्धू हार महीने रेलवे से करीब पचास लाख रूपए महीने की टिकटों को अवैध रूप से बेच कर कमाया करते थे और इस मामले को लेकर रेलवे बोर्ड के मेम्बर अजय गोयल ने एक पत्र भी जाँच हेतु दिया था लेकिन किसी तरह इस जाँच को दबा दिया गया जुगरान ने कहा की वो केंद्र सरकार से सिद्धू के खिलाफ जाँच को लेकर जल्द पत्र लिखेगे

सिद्धू के खिलाफ जाँच हुई तो मुसीबत में फसेंगे
अगर सिद्धू के खिलाफ केंद्र सरकार जाँच को लेकर कारवाही करती है तो सिद्धू के लिए मुसीबत बढ़ सकती है अब मामला केंद्र सरकार के पाले में जाता हुआ नज़र आ रहा है जब की इस मामले को लेकर अभी तक किसी भी भाजपा के नेता ने अपनी कोई बात नहीं कही है ऐसे में भाजपा अगर इस मामले को लेकर अपनी आवाज़ बुलंद करती है तो सिद्धू के लिए नयी मुसीबत सामने आ सकती है

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।

Comments

comments