जेपी इंटरनेशनल पब्लिक स्कूल में लड़कियों के उतारे कपडे

0
241

जेपी इंटरनेशनल पब्लिक स्कूल में लड़कियों के उतारे कपडे Jp international public school girl जेपी इंटरनेशनल पब्लिक स्कूल में लड़कियों के उतारे कपडे हरिद्वार कस्बा लंढौरा के जेपी इंटरनेशनल पब्लिक स्कूल में अंग्रेजी की परीक्षा में कम नंबर आने पर शिक्षिका ने कक्षा छह की दो छात्रओं के कक्षा में कपड़े उतरवा दिये। छात्रओं ने प्रधानाचार्य से शिकायत की तो उन्होंने भी उनसे यह बात घर पर ना बताने की बात कही। घर पहुंची छात्रओं ने परिजनों को पूरे मामले से अवगत कराया। जिस पर परिजनों ने स्कूल में जमकर हंगामा काटा। सूचना पाकर पुलिस भी मौके पर पहुंची और अभिभावकों को किसी तरह से शांत कराया। परिजनों ने घटना की तहरीर पुलिस को दी है। वहीं ज्वाइंट मजिस्ट्रेट ने भी मामले में रिपोर्ट तलब की है।

घटनाक्रम के मुताबिक मोहल्ला किला और हरिजन बस्ती निवासी दो बच्चियां जेपी इंटरनेशनल पब्लिक स्कूल में कक्षा छह की छात्र हैं। मंगलवार को स्कूल में कक्षा छह का अंग्रेजी विषय का पेपर था। जिसमें इन दोनों के कम नंबर आये। आरोप है कि इसके बाद कक्षा अध्यापिका ने छात्रओं को सबसे पीछे खड़ा कर दिया और कपड़े उतारने को कहा। इस पर छात्रओं ने कपड़े उतारने से मना कर दिया। आरोप है कि इसके बाद शिक्षिका खुद पीछे पहुंची और उनके जबरन कपड़े उतार दिये। इस दौरान एक छात्र की कमीज के बटन भी टूट गये। काफी देर तक दोनों छात्रएं इसी स्थिति में खड़ी रही। इसके बाद उन्होंने इस मामले की शिकायत विद्यालय की प्रधानाचार्य से की लेकिन आरोप है कि प्रधानाचार्य ने छात्रओं को धमकी दी कि वह इस बारे में घर पर कोई बात ना करें। छात्रओं ने घर पहुंचकर परिजनों को इस बात की जानकारी दी तो परिजन आग बबूला हो गये।’
इस मामले को लेकर परिजनों ने स्कूल के खिलाफ पुलिस को लिखित शिकायत दी है एस पी देहात मणि कांत मिश्रा ने बताया की ममले की जांच की जा रही है पुलिस के पास एक शिकायत पत्र आया है जिस में इस तरह के आरोप लगाए गए है

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।

Comments

comments