अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार मेला शुरू ‘‘मेक-इन-इंडिया’’

0
621

नई दिल्ली के प्रगति मैदान में चल रहे 35 वें भारत अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार मेले में उत्तराखण्ड पैवेलियन का आज उत्तराखण्ड के लघु उद्योग, खादी एवं ग्रामोद्योग, श्रम रोजगार एवं सेवायोजन तथा दुग्ध विकास मंत्री हरीश चन्द्र दुर्गापाल ने दीप प्रज्जवलित कर पवेलियन का उद्घाटन किया। इस वर्ष भारत अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार मेले की थीम ‘‘मेक-इन-इंडिया’’ है। मेले में अफगानिस्तान साझेदार राष्ट्र के रूप में तथा बांग्लादेश फोकस राष्ट्र के रूप में प्रतिभाग कर रहा है जबकि राज्यों में मध्य प्रदेश फोकस राज्य के रूप में प्रतिभाग कर रहा है।
इस अवसर पर श्री दुर्गापाल ने बताया कि राज्य गठन के बाद राज्य के आर्थिक विकास की दर देश में सर्वश्रेष्ठ राज्यों में रही है और इसमें उद्योग क्षेत्र का महत्वपूर्ण योगदान रहा है। उन्होनंे कहा कि प्रदेश विगत वर्षों में सबसे महत्वपूर्ण उपलब्धि उद्यमिता क्षेत्र में जागरूकता विशेषकर पर्वतीय क्षेत्रों में आई है और इसकी संवाहक राज्य की महिलाएं है।
उत्तराखण्ड पैवेलियन में इस वर्ष आई0आई0टी0एफ0-2015 की थीम मेक इन इंडिया के अनुरूप प्रदेश में मैन्युफैक्चरिंग एवं उसमें सहायक क्षेत्रों जैसे की औद्योगिक अवस्थापना, स्किल डेवलपमेंट, ऊर्जा क्षेत्र को प्रमुखता से पदर्शित किया गया है। उत्तराखण्ड को एक एजुकेशन हब के रूप में प्रदर्शित करने का भी प्रयास किया गया है। थीम के अनुरूप सिडकुल द्वारा विकसित आधुनिकतम स्वीकृत औद्योगिक संस्थनों तथा वर्तमान में विकसित किये जा रहे अवस्थापना सुविधाओं का चित्रण किया गया है। प्रदेश में राज्य गठन के बाद तीव्र औद्योगिक विकास हुआ है। और यहां देश-विदेश के लगभग सभी प्रमुख उद्योग समूहों की इकाईयां स्थापित है। इसके अलावा उत्तराखण्ड के कृषि, उद्यान एवं वन विभाग के भी स्टाॅल लगाये गये है।
हथकरघा-हस्तशिल्प क्षेत्र में प्रदेश ने हिमाद्री ब्राॅन्ड को बाजार में प्रतिस्थापित किया है। देश एवं विदेश में प्रदेश के शिल्प उत्पादों को पहुंचाने के लिये प्रदेश में 15 विकास खण्डों में वस्त्र मंत्रालय भारत सरकार के सहयोग से चलाई जा रही एकीकृत हस्तशिल्प विकास योजना के अन्र्तगत कुशल डिजाइनरों द्वारा आर्टिशन के माध्यम से विकसित किये गये उत्पाद भी पैवेलियन मंे प्रदर्शित किये गये है।
पर्यटन उत्तराखण्ड के लिये सर्वाधिक महत्वपूर्ण क्षेत्र है। पैवेलियन के एक द्वार पर जहां परम्पारगत बद्रीनाथ मंदिर में प्रवेश की अनुभूति होती है। वहीं दूसरा द्वार मेक-इन-इंडिया को समर्पित है। जिसमें उत्तराखण्ड में आधुनिक उद्योगों की स्थापना, अवस्थापना एवं उद्यमिता क्षेत्रों को प्रदर्शित किया गया है। पैवेलियन के थीम क्षेत्र में भी केदारनाथ मंदिर के प्रवेश द्वार बनाये गये है।
पैवेलियन में उत्तराखण्ड के ग्रामीण एवं पर्वतीय क्षेत्रों तथा महिलाओं समूहों द्वारा उत्पादित उत्पाद दाल, बड़ी, जैम, जूस, नमकीन, आचार, अल्मोड़ा की प्रसिद्व बालमिठाई आदि बड़ी मात्रा में दर्शकों के लिये उपलब्ध है। इसे अलावा पैवेलियन में उत्तराखण्ड के प्राकृतिक और आॅर्गनिक उत्पाद उपलब्ध है। गत वर्षाे की भांति इस बार भी आ आई0आई0टी0एफ0-2015 में “उत्तराखण्ड दिवस” 24 नवम्बर, 2015 को लाल चैक थियेटर में मनाया जायेगा।

इस अवसर पर मंत्री श्री दुर्गापाल जी के साथ उत्तराखण्ड राज्य आन्दोलनकारी सम्मान परिषद् के उपाध्यक्ष धीरेन्द्र प्रताप, प्रमुख सचिव एम0एस0एम0ई0, मनीषा पॅवार, निदेशक उद्योग एवं एमडी सिडकुल राजेश कुमार, अपर स्थानिक आयुक्त एस0डी0शर्मा, अपर निदेशक उद्योग एस0सी0 नौटियाल, वरिष्ठ व्यवस्था अधिकारी गणेश मिश्रा एवं विभिन्न विभागों के उच्च अधिकारी तथा उत्तराखण्ड के दिल्ली स्थित कार्यालयों के अधिकारी एवं कर्मचारी उपस्थित थे।

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।

Comments

comments