अग्निकुंड में बनी भगवान शिव की साक्षात् तस्वीर

0
196

अग्निकुंड में बनी भगवान शिव की साक्षात् तस्वीर

देहरादून: सावन के महीने में भगवान शिव की भक्ति को लेकर धर्म नगरी से देवभूमि तक इस समय पूरी तरह से धार्मिक रस से शिव की भक्ति में सराबोर नजर आ रही है. ऐसे में उत्तराखंड के भीमताल विधानसभा के सुदूर क्षेत्र में की गई एक पूजा में भगवान शिव की आग में तस्वीर कोतूहल का विषय बनी हुई है. उत्तराखंड को देवभूमि माना जाता है यहाँ धार्मिक आस्था के साथ साथ देवताओं की पूजा अर्चना का भी प्रचलन काफी है. चार धाम के साथ-साथ यहां कई धार्मिक स्थल ऐसे हैं जहां आज भी देवों का साक्षात वास है. देहरादून के टपकेश्वर में भगवान शिव का वास और बाबा केदारनाथ में साक्षात बाबा केदार विराजमान होते हैं वही बद्रीनाथ में भगवान विष्णु को बेहद खास रूप से पूजा जाता है. देवभूमि हमेशा से ही धार्मिक स्थलों के रूप में जानी जाती है यहाँ धार्मिक यात्राओं का महत्व भी काफी अधिक बढ़ जाता है यही कारण है कि धर्मनगरी हरिद्वार में इस समय कांवड़ यात्रा को लेकर भोले के भक्तों का हुजूम उमड़ा हुआ है. इन सबके बीच सावन के पवित्र महीने में उत्तराखंड के भीमताल विधानसभा के भद्र कोट गांव में पूजा करते हुए यज्ञ में ऐसी तस्वीर का नजारा देखने को मिला है जिसमें साक्षात भगवान शंकर नजर आ रहे हैं. अगर आप इस तस्वीर को गौर से देखेंगे तो आपको भी भगवान शिव के साक्षात दर्शन इस अग्निकुंड में निकल रही अग्नि में साफ तौर से देखने को मिल सकते हैं. यह तस्वीर काफी दुर्लभ बताई जा रही है और यज्ञ कुंड में प्रकट हुई यह तस्वीर सावन के मौके पर भगवान शिव का साक्षात रूप लिए हर किसी को अपनी तरफ आकर्षित करने में लगी हुई है. भीमताल में भद्रकोट गांव में पूजा-अर्चना के दौरान यह तस्वीर लुआखाम जी के मंदिर में यज्ञ करते हुए सामने आई है. तस्वीर को लेकर धार्मिक भावनाओं के साथ साथ लोग इसे काफी संख्या में शेयर भी कर रहे हैं और अपने परिजनो व जानने वालो को भी शिव दर्शन के लाभ दिला रहे है. अगर आप भी साक्षात भगवान शिव के दर्शन करना चाहते हैं तो इस खबर और फोटो को शेयर करें.

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।