’आइडियाट आॅन इनोवेटिव सस्टेनेबनल डेवलेपमेंट आॅफ उत्तराखण्ड’ का उद्घाटन

0
272

’आइडियाट आॅन इनोवेटिव सस्टेनेबनल डेवलेपमेंट आॅफ उत्तराखण्ड’ का उद्घाटन

देहरादून उत्तरखण्ड इण्डस्ट्रीयल एसोसिएशन द्वारा दून विश्वविद्यालय में आयोजित ’आइडियाट आॅन इनोवेटिव सस्टेनेबनल डेवलेपमेंट आॅफ उत्तराखण्ड’ पर बे्रन स्टोर्मिंग सेशन का उद्घाटन उत्तराखण्ड के राज्यपाल डाॅ.कृष्ण कांत पाल ने किया। कार्यक्रम को मुख्य अतिथि के रूप में सम्बोधित करते हुए राज्यपाल ने विश्वविद्यालयों व इण्डस्ट्रीज के मध्य आपसी समन्वय से आयोजित कार्यक्रम को प्रदेश के लिए महत्वपूर्ण बताया। राज्यपाल ने कहा कि सतत् विकास के माध्यम से राज्य की उन्नति के लिए विश्वविद्यालयों की भूमिका भी अहम है। उन्होंने कहा कि सत्र में विचार मंथन के लिए चुने गये सभी विषय प्रासंगिक हैं। अच्छा स्वास्थ्य, जीरो हंगर, गुणवत्तायुक्त शिक्षा, स्वच्छ पेयजल, आर्थिक विकास आदि कार्यक्रम में चर्चा के लिए शामिल हैं।
राज्यपाल ने अपने सम्बोधन में विश्वविद्यालयों व औद्योगिक संस्थानों को एकीकृत प्रणाली विकसित करने की बात कही। उन्होंने कहा कि राज्य के कृषकों को बाजार मुहैया कराये जाना प्राथमिकता है। इससे पहाड़ों से पलायन को रोका सकेगा। पर्वतीय क्षेत्रों में निवास करने वाले नागरिकों में आर्थिक सुरक्षा की भावना ही पलायन को रोकने में कारगर होगी। उन्होंने कहा कि यदि हमंे उत्तराखण्ड जैसे पर्वतीय राज्य का औद्योगिक विकास करना है तो यह आवश्यक है कि किसानों को खेती में आधुनिकतम तकनीकी उपकरणों के इस्तेमाल को बढ़ावा दिया जाये। साथ ही किसानों को इनके प्रयोग से होने वाले अधिक आर्थिक लाभ की जानकारी से भी अवगत कराया जाय। राज्यपाल ने कहा कि उत्तराखण्ड के विकास के लिए पर्वतीय क्षेत्रों के किसानों को उनके उत्पादों की सप्लाई के लिए सुरक्षित सड़कें भी महत्वपूर्ण हैं। बाजारों तक पहुंच के लिए सड़क मार्गों को सुगम बनाना होगा।
राज्य के सतत विकास में राज्यपाल ने विश्वविद्यालयों की भूमिका को महत्वपूर्ण बताया। उन्होंने कहा कि विश्वविविद्यालय भूतकाल और भविष्य के बीच सेतु का काम करते हैं। विश्वविद्यालयों को तकनीकी के छात्रों को सीमित दायरों से आगे बढ़कर सोचने के लिए प्रोत्साहित करना होगा। नये -नये अनुसंधान ही इन छात्रों के विचारों को मूर्त रूप में प्रस्तुत कर सकते है। छात्र नये विचारों, जिज्ञासाओं और साहस से भूरपूर होते हैं। विश्वविद्यालयों को छात्रों को डिजिटल इण्डिया, मेक इन इण्डिया और स्टार्ट अप इण्डिया जैसी नई पहल पर शोधकार्याें कोे बढ़ावा दिये जाने की प्र्रेरणा देनी चाहिए। इनके शोध और अनुसंधान भी उत्तरखण्ड में कई तरह की उन्नति में सहायक सिद्ध होंगे। विश्वविद्यालयों को छात्रों में उद्यमशीलता को बढ़ावा देना चाहिए।
इस अवसर पर सचिव शहरी विकास आर मीनाक्षी सुंदरम, मुख्यमंत्री के आर्थिक सलाहकार इन्दु कुमार पाण्डे सहित विभिन्न विश्वविद्यालयों के कुलपति उपस्थित रहे।

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।

Comments

comments