यहां एक वक़्त की रोटी के लिए औरतें बेच देती हैं खुद को मात्र 50 रुपये में : HIV Transit

0
111

यहां एक वक़्त की रोटी के लिए औरतें बेच देती हैं खुद को मात्र 50 रुपये में : HIV Transit

hiv
नोएडा. इसे अगर शौक कहेंगे तो शायद ये उन औरतो के साथ बेईमानी हो जो सिर्फ अपने बच्चो के मुह में दो निवाले डालने के लिए अपना शरीर केवल 50 रुपये के लिए बेच देती हैं. परिवार के पालन-पोषण के लिए यह रास्ता गलत जरूर है, लेकिन इन महिलाओं के लिए आमदनी का यही एकमात्र जरिया है. 50 रुपये में अपना जिस्म बेचने की मजबूरी में असुरक्षित यौन संबंध इन महिलाओं को एचआईवी की चपेट में ला रहे हैं. वहीं इनके साथ असुरक्षित संबंध बनाने वाले पुरुष भी एचआईवी संक्रमण के शिकार हो रहे हैं.

बच्चों को दो जून की रोटी के लिए 50 रुपये में जिस्म बेचने की मजबूरी की व्यथा नोएडा जिला अस्पताल के इंटेग्रेटेड काउंसलिंग एंड टेस्टिंग सेंटर (आइसीटीसी) में महिलाओं ने बताई. काउंसलिंग के दौरान मात्र 50 रुपये लेकर देह व्यापार करने वाली महिलाओं ने जानकारी दी कि उनके लिए सुरक्षित व असुरक्षित शारीरिक संबंध बनाना मायने नहीं रखता. उनकी तो मजबूरी है कि शाम को बच्चों के मुंह में निवाला कैसे पहुंचेगा. महिलाओं ने बताया कि यह संबंध बनाने वाले व्यक्ति पर निर्भर करता है. उसके पास एचआइवी से बचाने वाले साधन हैं या नहीं. देह व्यापार करने वाली महिलाएं ग्राहक को ही जिम्मेदार मानती हैं. हालांकि वह संबंध बनाने से इन्कार नहीं करतीं.

ऐसी महिलाओं ने काउंसलिंग में बताया कि अगर वह ग्राहक को मना कर देंगी, तो उनकी रोजी-रोटी कैसे चलेगी? इसे विडंबना ही कहा जाएगा कि रोजी-रोटी चलाने के लिए नोएडा शहर एचआइवी संक्रमण की चपेट में आता जा रहा है. आइसीटीसी के अनुसार इनमें से ज्यादातर महिलाएं झुग्गी-झोपड़ी व कांस्ट्रक्शन साइटों के आसपास रहती हैं. वह अवैध देह व्यापार के जरिये एचआइवी की वाहक बन रही हैं। ऐसे में ग्राहक को ही सतर्क रहना चाहिए. ताकि वह एचाआइवी संक्रमण से बच सकें.

आइसीटीसी से प्राप्त आंकड़ों के अनुसार समलैंगिक संबंध रखने वाले व थर्ड जेंडर में एचआइवी संक्रमण के मामले ज्यादा रिपोर्ट किए गए हैं। वर्ष 2016 से अब तक करीब 1600 समलैंगिक व थर्ड जेंडर की जांच हुई। इनमें से 29 एचआइवी पॉजिटिव पाए गए।

नोडल चिकित्सा अधिकारी (एचआइवी) डॉ. श्रीष जैन ने बताया कि सभी रेड जोन एरिया में सरकार एचाआइवी संक्रमण से बचाने के लिए निरोध का वितरण करती है. जागरूकता व जांच कार्यक्रम भी लगातार चलाए जाते हैं. जिला अस्पताल, भंगेल व दादरी में इसकी जांच व इलाज मुफ्त उपलब्ध है. मरीज का ब्यौरा भी गुप्त रखा जाता है.

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।

Comments

comments