हाई कोर्ट ने क्यों कहा लेखक पुरस्कार वापस नहीं कर सकते

0
189

हाई कोर्ट ने क्यों कहा लेखक पुरस्कार वापस नहीं कर सकते
नई दिल्ली : बड़े विचार-विमर्श के बाद लेखकों को साहित्य अकादमी पुरस्कार दिए जाते हैं। लेखक इन्हें वापस नहीं कर सकते। यह टिप्पणी हाई कोर्ट ने की है। मुख्य न्यायाधीश जी. रोहिणी और न्यायमूर्ति संगीता ढींगरा सहगल की खंडपीठ ने कहा कि 2015 में अकादमी के एक्जिक्यूटिव बोर्ड ने यह तय किया था कि एक बार यह पुरस्कार देने के बाद उसे वापस नहीं लिया जाएगा। ऐसे में पुरस्कार वापस करने वालों के लिए गाइडलाइन बनाने की जरूरत नहीं है। 2015 में प्रख्यात लेखक एमएम कलबुर्गी की हत्या पर सरकार को उदासीन बने रहने और असहिष्णुता का आरोप लगाते हुए 38 लेखकों ने पुरस्कार वापस किए थे। इन पुरस्कारों की वापसी का विरोध करते हुए एक जनहित याचिका हाई कोर्ट में दाखिल की गई थी। कोर्ट ने सोमवार को इस याचिका को खारिज कर दिया है। कोर्ट ने कहा कि जब साहित्य अकादमी का संविधान पुरस्कार वापस लेने की इजाजत ही नहीं देता तो इस मुद्दे पर विचार करने का कोई औचित्य ही नहीं है। पेश मामले में वकील हाजी मोहम्मद माजिद कुरैशी और एक धार्मिक संगठन ने यह याचिका दायर की थी। दोनों ने अपील की थी कि जिन लेखकों ने पुरस्कार वापस किए हैं, उन्हें पुरस्कार राशि और पुस्तकों की बिक्री से मिलने वाली रॉयल्टी भी वापस करनी चाहिए। साथ ही पुरस्कार वापस करने वाले लेखकों पर कार्रवाई करने की मांग की। वकील और धार्मिक संगठन का कहना है कि पुरस्कार वापसी संबंधी गाइडलाइन भी बनाई जाए। इससे पूर्व कोर्ट ने केंद्र सरकार से पुरस्कार वापस करने संबंधी क्या दिशा निर्देश तय है और क्या उसे तोड़ा गया है, इस बारे में जवाब मांगा था। साथ ही लेखक एमएम कलबुर्गी की हत्या की भी जांच रिपोर्ट मांगी थी। के दौरान केंद्र सरकार ने कोर्ट को बताया था कि पुरस्कार वापस करने वाले लेखकों ने रॉयल्टी नहीं लौटाए हैं।’ कोर्ट ने कहा, बड़े विचार-विमर्श के बाद दिया जाता है यह सम्मान पुरस्कार वापस करने वालों के लिए गाइडलाइन की नहीं जरूरत

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।

Comments

comments