हरीश रावत ने दी उपतहसील तथा मिनि स्टेडियम की सौगात

0
127

हरीश रावत ने दी उपतहसील तथा मिनि स्टेडियम की सौगात

पौड़ी मुख्यमंत्री हरीश रावत ने दुगड्डा क्षेत्रांर्गत आयोजित कार्यक्रम में डाडामंडी में आधा दर्जन घोषणाएं कर क्षेत्र को पर्यटन हब के रूप में विकसित करने को कहा। उन्होंने भयांसी को उपतहसील का दर्जा देने तथा डाडामंडी क्षेत्र में मिनिस्टेडियम का शीघ्र ही निर्माण करने को कहा। मिनिस्टेडियम के लिए सीएम रावत ने 11 लाख रूपये भी प्रथम किश्त के रूप में स्वीकृत किये। उन्होंने प्रदेश को 2020 तक गरीबी मुक्त करने तथा महिलाओं को रोजगार देकर अधिक से अधिक सशक्त बनाने का भी संकल्प लिया। बाल विकास विभाग एवं महिलाआ आयोग की पहल पर जयंती सरस्वती विद्या मंदिर के प्रांगण में आयोजित ‘‘बेटी बचाओबेटी पढ़ाओ‘‘ कार्यक्रम में मुख्यमंत्री हरीश रावत ने आधा दर्जन घोषणाएं की। उन्होंने कहा कि उनकी सरकार की ओर से डाडामंडी क्षेत्र को पर्यटन हब के रूप में विकसित किये जाने के लिए ठोस प्रयास किये जाएंगे। क्षेत्र का सम्पूर्ण विकास हो इसके लिए शिक्षा, सड़क, स्वास्थ्य, पेयजल, महिला सशक्तिकरण आदि बुनियादी सुविधाओं से क्षेत्र के लैस किया जाएगा। दीप प्रज्जवलित कर कार्यक्रम का विधिवत शुभारंभ करते हुए मुख्यमंत्री ने क्षेत्र में एक मिनि स्टेडियम के शीघ्र निर्माण के लिए 11 लाख रूपये की प्रथम किश्त स्वीकृत की। उन्होंने ब्लाक के भयांसी को उप तहसील बनाने, राजकीय इंटर कालेज कांडई का नाम स्व. जगमोहन सिंह नेगी तथा राजकीय इंटर कालेज दुगड्डा का नाम स्व. भवानी सिंह करनेे, आईटीआई दुगड्डा का नाम स्व. बलदेव सिंह के नाम पर करने की घोषणा की। करीब 45 मिनट के अपने सम्बोधन में मुख्यमंत्री ने क्षेत्र के विकास के लिए अपनी सरकार की प्रतिबद्धता को दोहराया। उन्होंने कहा कि राज्य में महिलाओं को भय से मुक्त दिलाने के लिए हर थाने व चैराहों में महिला एसआई तथा कांस्टेबल की तैनाती की जाएगी। उन्होंने कहा कि सरकार की ओर से ग्रामीण क्षेत्रों में महिला कामगारों को मनरेगा से जोड़ा जाएगा। 65 वर्ष से अधिक आर्य वर्ग के विकलांग पेंशन लाभार्थियों को पांच सौ रूपये प्रतिमाह बढ़ाकर दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश में विधवा, विकलांग, किसान समेत विभिन्न पेंशन धारकों को एक लाख 74 हजार से बढ़ाकर सात लाख 25 हजार कर दिया गया हैै। कहा कि इन पेंशन के लाभार्थियों की संख्या को शीघ्र ही बढ़ाकर दस लाख किया जाएगा। उन्होंने कहा कि फिर से राज्य की बागडोर संभालने का मौका मिला तो सर्वप्रथम उत्तराखंड को गरीबी मुक्त कर दिया जाएगा। इसके लिए उन्होंने रणनीति के तहत वर्ष 2020 तक का लक्ष्य भी निर्धारित किया है। कहा कि राज्य में कई ऐतिहासिक कार्य होने बाकी हैं जिसके लिए पर्याप्त समय नहीं है। अपने सम्बोधन में मुख्यमंत्री ने पहाड़ी क्षेत्रों में परंपरागत कृषि करने पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि किसी भी देश व राज्य की सम्पन्नता कृषि पर ही निर्भर है। राज्य में कृषि क्षेत्र को प्रोत्साहन देने के लिए काश्तकारों को विभिन्न योजनाओं के तहत प्रोत्साहित किया जा रहा है। उन्होंने पहाड़ी क्षेत्रों में शिक्षा के स्तर को और बेहतर बनाने के लिए शिक्षकों तथा अभिभावकों को प्रेरित किया। कहा कि दोनों के आपसी तालमेल से ही बच्चों को उत्कृष्ट शिक्षा दी जा सकती है। कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए महिला आयोग की अध्यक्ष सरोजनी कैंत्यूरा ने मुख्यमंत्री की ओर से की गई घोषणाओं को क्षेत्रहित में बताया। इस मौके दर्जा प्राप्त राज्य मंत्री राजेंद्र शाह, प्रदेश सचिव महिला कांग्रेस रूची कैंत्यूरा, हंस फाउंडेशन के प्रदेश प्रभारी पदमेंद्र सिंह बिष्ट टैगू भाई, कांग्रेस जिलाध्यक्ष चंद्रमोहन खर्कवाल, ब्लाक प्रमुख दुगड्डा सुरेश असवाल, ब्लाक प्रमुख यमकेश्वर कृष्णा नेगी, जगमोहन सिंह नेगी, व्यापार प्रकोष्ठ के अध्यक्ष इंद्र प्रकाश आदि उपस्थित रहे। संचालन नगर पालिकाध्यक्ष दुगड्डा दीपक बडोला ने किया।

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।

Comments

comments