ज्ञान कुम्भ से बदलाव मंथन निकाले जाने को कुम्भ

0
115

देहरादून। उत्तराखंड हरिद्वार में तीन नवंबर से शुरू हो रहे प्रदेश के पहले ज्ञानकुंभ में देशभर के करीब 5000 लोग शामिल होंगे। इसमें 18 राज्यों के उच्च शिक्षा मंत्री, 131 विश्वविद्यालयों के कुलपति भी शामिल हैं। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने प्रेसवार्ता में कहा कि ज्ञानकुंभ में उच्च शिक्षा में बड़े बदलाव का खाका तैयार होगा। ये ज्ञान कुम्भ को आयोजित करने वाला उत्तराखंड पहला राज्य बन गया है जहा पर शिक्षा में सुधार सहित दूसरे मुद्दों को लेकर हरिद्वार में इतना बड़ा कार्यक्रम आयोजित किया गया है।

 

ज्ञान कुम्भ को लेकर आज हरिद्वार पहुंचे उत्तराखंड के उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. धन सिंह रावत ने तैयारी किये जा रहे कार्यक्रम स्थल का जायजा लिया हरिद्वार पहुंचे उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. धन सिंह रावत ने कहा की ज्ञान कुम्भ को आयोजित किये जाने का अवसर उत्तराखंड को मिला है

कल तीन और चार नवंबर को उच्च शिक्षा विभाग की ओर से हरिद्वार स्थित पतंजलि योगपीठ में ज्ञानकुंभ का शुभारंभ राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद करेंगे। इस अवसर पर राज्यपाल बेबी रानी मौर्य, नागालैंड के राज्यपाल पद्मनाभ बालकृष्ण आचार्य, मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावडे़कर, मानव संसाधन विकास राज्यमंत्री प्रो. सत्यपाल, बाबा रामदेव और आचार्य बालकृष्ण भी मौजूद रहेंगे।

ज्ञान कुम्भ इस तरह होगा पूरा प्रोग्राम

ज्ञानकुंभ में कुल पांच तकनीकी सत्र होंगे। पहला सत्र तीन नवंबर को दोपहर दो बजे से शुरू होगा। इसमें ‘भारत में उच्च शिक्षा की गुणवत्ता में सरकारी प्रयास’ विषय पर चर्चा होगी। इसमें मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत, उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. धन सिंह रावत, डॉ. प्रणव पांड्या शामिल होंगे। मुख्य वक्ता मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावडे़कर होंगे। दूसरा सत्र चार नवंबर को सुबह नौ बजे से दस बजे तक होगा।

इसमें ‘उच्च शिक्षा एवं भारतीय ज्ञान परंपरा’ विषय पर आचार्य बालकृष्ण, प्रो. पीके दीक्षित, कुमाऊं विवि के कुलपति प्रो. डीके नौरियाल अपनी बात रखेंगे। मुख्य वक्ता बाबा रामदेव होंगे।

तीसरा सत्र सुबह 10:30 बजे से सुबह 11:20 बजे तक होगा। इसमें ‘उच्च शिक्षा में नीतियों के निर्माण एवं कार्यान्वयन’ विषय पर मानव संसाधन राज्यमंत्री सत्यपाल सिंह विचार रखेंगे। इस सत्र में सभी राज्यों के उच्च शिक्षा सचिव भी शामिल होंगे।

चौथा सत्र सुबह 11:45 बजे से दोपहर दो बजे तक होगा। इसमें ‘नवोन्मेषी, शोध एवं गुणवत्ता सुधार’ विषय पर चर्चा होगी। इसकी अध्यक्ष यूजीसी के अध्यक्ष प्रो. डीपी सिंह करेंगे। सह अध्यक्ष श्रीदेव सुमन विवि के कुलपति डॉ. उदय सिंह रावत होंगे।

अंतिम सत्र दोपहर तीन बजे से चार बजे तक होगा। इसमें ‘उच्च शिक्षा की चुनौतियां एवं कौशल विकास’ विषय पर गढ़वाल विवि के पूर्व कुलपति प्रो. एसपी सिंह अपनी बात रखेंगे। समापन के अवसर पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ बतौर मुख्य अतिथि पहुंचेंगे।

 

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।

Comments

comments