लड़किया हुई बेहोश देवता की विभूति से जागी

0
111

अस्कोट। उत्तराखंड में देवता वास करते है लेकिन कई बार स्कूलों में होने वाली ऐसी वारदातों को अहम नज़रअंदाज़ कर देते है ऐसा ही एक मामला स्कूल में हुआ तो वहाँ हड़कंप मच गया जिसके बाद स्कूल जाने में बच्चो को अब सोमवार को भी डर सता रहा है जिसकी वजह कुछ नहीं अचानक स्कूल के आधा दर्जन से अधिक लड़कियों के चिल्ला कर बेहोश होने वाली वजह है जिसके बाद उनको तुरत अस्पताल ले जाया गया जहा आराम नहीं आने पर उनको देवता की विभूति तक लगायी लाई जिसके बाद काफी समय लगा और सभी लड़किया सही हो गयी इसी तरह की बातें पूर्व में भी सामंने आ चुकी है जिसको लेकर अब पता चला है ये कोई बीमारी नहीं बल्कि लड़कियों में बदलाव के कारण ऐसा होता है।

लड़किया जब हुई बेहोश तब देवता की विभूति से जागी

स्कूल में अचानक दस छात्राएं एक साथ बेहोश हो गर्इ। जिससे स्कूल में हड़कंप मच गया। आनन-फानन छात्राओं को डॉक्टर के पास लाया गया। जहां उपचार के बाद भी कोर्इ सुधार नहीं हुआ। वहीं, चिकित्सों ने कहा कि ये मास हिस्टीरिया है, हार्मोंस परिवर्तन के दौरान अक्सर किशोरियों में इस तरह के लक्षण दिखते हैं। जो अपने आप ठीक हो जाता है।

दरअसल, राजकीय इंटर कॉलेज अस्कोट में शनिवार को क्लास में पढ़ाई चल रही थी। अचानक दो छात्राएं चिल्लाते हुए रोने लगी। देखते ही देखते क्लास में बैठी करीब आठ और छात्राएं भी उनकी ही तरह चिल्लाने और रोने लगी। जिसके बाद कुछ अजीब हरकतें करते हुए वो सभी बेहोश हो गईं।

इस घटना को लेकर पूरे विद्यालय में हड़कंप मच गया। शिक्षक बेहोश छात्राओं को अस्कोट बाजार स्थित एक क्लीनिक ले गए। जहां उपचार के बाद भी छात्राओं की हालत में कोई सुधार नहीं हुआ। यहां तक कि छात्राओं को भभूत तक लगा दी गर्इ। हालांकि कुछ देर बाद छात्राएं खुद-ब-खुद ठीक हो गर्इं। इसी तरह की बातें पूर्व में भी सामंने आ चुकी है जिसको लेकर अब पता चला है ये कोई बीमारी नहीं बल्कि लड़कियों में बदलाव के कारण ऐसा होता है।

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।

Comments

comments