जिलाधिकारी ने गरूड विकास खण्ड के अति दूरस्थ ग्रामीण क्षेत्रों का पैदल भ्रमण।

0
233

जिलाधिकारी ने गरूड विकास खण्ड के अति दूरस्थ ग्रामीण क्षेत्रों का पैदल भ्रमण।

बागेष्वर जिलाधिकारी मंगेष घिल्डियाल ने गरूड विकास खण्ड के विभिन्न दूरस्थ एवं अति दूरस्थ ग्रामीण क्षेत्रों का विशम पैदल मार्गो से होते हुए लगभग 15 किमी से अधिक पैदल दोैरा किया एवं सडक षिक्षा स्वास्थ्य, विद्युत, पेयजल, सिंचाई, स्वरोजगार आदि से सम्बन्धी समस्याओं का धरातलीय निरीक्षण किया एवं सम्बन्धित क्षेत्रों के ग्रामीणों से बातचीत कर उनकी समस्याऐं सुनी, इसके अलावा क्षेत्रों में चल रहे विभिन्न सरकारी योजनाओं का भी निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने ग्रामीणों के आजीविका के संसाधनों से रूबरू होकर उन्हें सरकार द्वारा संचालित योजनाओं का लाभ लेने के लिए पे्ररित किया। उनका कहना था कि हर गरीब व्यक्ति को संचालित योजनाओं का लाभ मिलना चाहिए। जिलाधिकारी के ग्राम दाबू पहुॅंचने पर ग्रामीणों में खासा उत्साह देखा गया और उन्होंने इतनी दूर पैदल चलकर जिलाधिकारी के पहुॅंचने पर उनका आभार व्यक्त किया। ग्रामीणों का कहना था कि पहली बार विशम पैदल मार्गो से पैदल चलकर ग्रामीणों की समस्या जानने जिलाधिकारी एवं अन्य विभागीय अधिकारी पहुॅंचे हैं। लोंगों ने जिलाधिकारी का स्वागत करते हुए अपनी हर समस्या से उन्हें अवगत कराया। जिलाधिकारी ने ग्रामीणों से कहा कि उन्हें अपनी समस्याओं, परेषानियों के विशय में निसंकोच एवं जागरूकता के साथ सम्बन्धित विभागों या तहसील व जिला प्रषासन से बात करनी चाहिए और लिखित या मौखिक रूप से उन्हें अवगत कराना चाहिए। यदि इसके वाबजूद जिम्मेदार विभाग या अधिकारीकर्मचारी द्वारा आपकी समस्याओं के निराकरण में रूचि नहीं दिखाई जाती है तो आप सीधे मुझसे लिखित अथवा मौखिक षिकायत कर सकते हैं। आपकी षिकायतों पर यथासमय आवष्यक कार्यवाही अमल में लाई जायेगी। जिलाधिकारी ने ग्रामीणों से कहा कि वे अपने गांव एवं आसपास होने वाले प्रत्येक छोटेबडे विकास कार्यो की गुणवत्ता पर नजर रखें और आवष्यकता महसूस होने पर सम्बन्धित विभाग व स्थानीय प्रषासन के पास अपनी आपत्ति व षिकायत दर्ज करें। जिलाधिकारी ने दाबू गांव का भ्रमण करते हुए प्रत्येक घर में जाकर गर्भवती महिलाओं तथा बच्चों के टीकाकरण के सम्बन्ध में ए0एन0एम0को समय से टीकाकरण करने के निर्देष दिये। भ्रमण के दौरान उन्होंने ग्रामीणों से जाॅंब कार्ड,आधार कार्ड,स्वास्थ्य बीमा कार्ड निर्गत की अघतन स्थिति की जानकारी ली। उन्होंने गांव के दर्जनों गौषालाओं का निरीक्षण किया एवं दुग्ध उत्पादन को बढाने के लिए, पषुओं में होने वाली बीमारी के निदान के लिए पषुचिकित्साधिकारी को पषुओं के स्वास्थ्य परीक्षण कर दवाई उपलब्ध कराने के निर्देष दिये। उन्होंने सम्बन्धित विभाग एवं स्थानीय पंचायत प्रतिनिधियों से जरूरतमन्द ग्रामीणों को मनरेगा के तहत गौषाला निर्माण के लिए प्रेरित करने को कहा। उन्होंने ग्रामीणों को समूह गठित कर मनरेगा के तहत कृशि, मत्स्य पालन, पषुपालन, उद्यानीकरण के क्षेत्र में रोजगार सृजन बढाने को कहा। उन्होंने गांव के भ्रमण के दौरान गोविन्द राम के घर के निकट स्थाई धारे के पास बंजर भूमि में मनरेगा के तहत तालाब बनाने का सुझाव दिया एवं आजीविका को बढाने के लिए सब्जी उत्पादन ,मत्स्य पालन तथा फलदार वृक्ष रोपित करने का सुझाव भी दिया। जिलाधिकारी ने दाबू पहुॅंचने पर हर घर में जाकर ग्रामीणों की समस्याओं को सुना एवं ग्रामीणों से मनरेगा के तहत मिलने वाले रोजगार की स्थिति की जानकारी ली, जिस पर अधिकांष ग्रामीणों द्वारा रोजगार न मिलने की षिकायत पर उन्होंने सम्बन्धित रोजगार सहायक को कड़ी फटकार लगाते हुए ग्रामीणों को 100 दिन का रोजगार देना सुनिष्चित करने के निर्देष दिये। उन्होंने दाबू गांव के दौरान देखा कि हर घर में भैंस, बकरी तथा गाय उपलब्ध है तो उन्होंने इस पर प्रसन्नता व्यक्त की और ग्रामीणों से अपनी आजीविका को बढाने के लिए दुग्ध उत्पादन को बढावा देकर इसे मजबूत स्वरोजगार के रूप में अपनाने का आह्वान किया,इसके लिए उन्होंने पषुचिकित्साधिकारी को पषुपालन के क्षेत्र में लोेगों को जागरूक करने के निर्देष देते हुए दुग्ध उत्पादन में बृद्धि के लिए पषुओ में होने वाली बीमारी तथा उनकी देखभाल व गौषाला के रखरखाव के सम्बन्ध में जानकारी देने को कहा। जिलाधिकारी ने दाबू गांव में निर्माणाधीन षौचालयों तथा इन्दिरा आवासों का स्थलीय निरीक्षण कर लोंगों को निर्माण कार्य में तेजी लाने को कहा। इस मौके पर उन्होंने प्राईमरी पाठषाला में बच्चों के पठन पाठन तथा विद्यालय की व्यवस्थाओं का जायजा लेते हुए बच्चों की कक्षा में जाकर उनके प्रष्न पूछे एवं पढाई का स्तर आषानुरूप नहीं पाये जाने पर षिक्षकों को कडी फटकार लगाते हुए बच्चों की पढाई में विषेश ध्यान देने के सख्त निर्देष दिये । विद्यालय में अध्ययनरत बच्चों के स्वास्थ्य कार्ड निर्गत न होने पर उन्होंने ए0एन0एम0 को स्वास्थ्य कार्ड जारी करने तथा समय से आयरन टैबलैट तथा टीकाकरण के निर्देष दिये। विद्यालय में उपस्थिति पंजिका का अवलोकन करने पर पाया गया कि दो अध्यापको में से एक अध्यापक अनुपस्थित था। जिस पर जिलाधिकारी ने षिक्षाधिकारी को अध्यापक का स्पश्टीकरण लेकर तत्काल कडी कार्यवाही करने के निर्देष दिये। विद्यालय में अध्ययनरत कक्षा तीन के छात्र दीपक कुमार जो गले की बीमारी से ग्रसित है चिकित्साधिकारी से मौके पर परीक्षण कराकर उसका उपचार करने के निर्देष दिये। उन्होंने आॅंगनबाडी केन्द्र का निरीक्षण करते हुए पाया गया कि बच्चों का वजन माप महिने वार नहीं किया जा रहा है तथा अक्टूबर, नवम्बर तथा दिसम्बर माह में पुश्टाहार वितरण नहीं किया गया है जिस पर उन्होंने नराजगी व्यक्त करते हुए आॅंगनबाडी सहायिका को समय से पुश्टाहार वितरण के सख्त निर्देष दिये। 2 जिलाधिकारी ने आषा कार्यकत्र्री तथा ए0एन0एम0 से गर्भवती महिलाओं के टीकारण, रक्त जाॅंच, हाईरिस्क की जानकारी लेते हुए सभी परीक्षण कराने के निर्देष दिये। उन्होेंने गांव के भ्रमण के दौरान कलावती देवी पत्नी द्वारिका प्रसाद के निर्माणाधीन इन्दिरा आवास का स्थलीय निरीक्षण कर खण्ड विकास अधिकारी को षीघ्र अवषेश किष्त जारी करने के निर्देष दिये। जिलाधिकारी ने गांव के भ्रमण के बाद ग्रामीणों की चैपाल लगाकर ग्रामीणों की समस्याऐं सुनी। चैपाल में ग्रामीणों द्वारा पय्या से दाबू तक मोटर मार्ग की मांग की गयी जिस पर जिलाधिकारी ने अधिषासी अभियन्ता लोकनिर्माण विभाग से सम्पर्क कर मोटर मार्ग निर्माण की अद्यतन स्थिति की जानकारी लेते हुए बताया गया कि सर्वे कार्य पूर्ण हो चुका है पत्रावली षासन में लम्बित है जिसे षीघ्र निस्तारित कर लिया जायेगा। उन्होेंने ग्राम पंचायत की कार्ययोजना का अवलोकन करते हुए अवर अभियन्ता को तत्काल प्रस्तावित योजनाओं का आंगणन तैयार करने के निर्देष दिये। गांव में कार्ययोजना के अनुसार मनरेगा के तहत निर्माण कार्यो की धीमी प्रगति पर उन्होंने रोजगार सहायक को कडी फटकार लगाते हुए कार्यो में तेजी लाने के निर्देष दिये। उन्होंने महिलाओं का आह्वान करते हुए कहा कि उन्हें आगे आकर अपने अधिकारों के प्रति सजग रहने की आवष्यकता है। उन्होंने कहा कि समूह बनाकर कुशि, उद्यान, पषुपालन आदि क्षेत्र में समूह के रूप में काम कर अपनी आजीविका मजबूत बनाने का प्रयास करें तथा बच्चों की षिक्षा को आगे बढाने के लिए विद्यालय में षिक्षकों की उपस्थिति पर निगरानी रखें। उन्होंने गांव में सब्जी, फल की सम्भावना को देखते हुए उद्यान विभाग को गांव में पालीहाउस निर्माण के निर्देष दिये। भ्रमण के दौरान जगहजगह नये पेयजल पाईप बिखरे पाये जाने पर जिलाधिकारी ने जलनिगम के अधिकारी को तत्काल स्थिति स्पश्ट करने को कहा। उन्होेेंने ग्रामवासियों से गांव में स्वच्छता पर विषेश ध्यान देने के साथ बच्चों के स्वास्थ्य का ख्याल रखने का सुझाव दिया कहा कि यदि बच्चा स्वस्थ्य होगा तो उसका दिमाग भी अच्छा होगा तभी वह आगे बढेगा। उन्होेंने लोगों से जाब कार्ड, आधार कार्ड, स्वास्थ्य बीमा कार्ड, टेकहोम राषन, गैस कैंनेक्शन तथा अनेक पेंषन योजनाओं की अद्यतन स्थिति की जानकारी लेते हुए कैषलैस प्रक्रिया के बारे में लोगों को बताया। जिलाधिकारी ने दाबू गांव के भ्रमण के बाद सिमगढी जाते समय निर्मित खडन्जा की गुणवत्ता हीनता की स्थिति को देखकर नाराजगी व्यक्त की एवं ग्राम विकास अधिकारी को दुबारा खडन्जा बनाने के निर्देष दिये। राजकीय उच्च प्राथमिक विद्यालय सिमगडी के निरीक्षण के दौरान उन्होंने ग्राम निधि से बने नव निर्मित भवन जिसका छः साल से हस्तान्तरण न होने तथा मानक के अनुसार भवन निर्माण न होने पर उन्होंने तीन अधिकारियों की समिति गठित कर जाॅंच के निर्देष दिये। उन्होंने जाॅंच में दोशी पाये जाने पर सम्बन्धित के खिलाफ सख्त कार्यवाही अमल में लाये जाने के निर्देष दिये। उन्होंने विद्यालय में बच्चों की पढाई का आंकलन कर पाया कि बच्चों को गणित,अंग्रेजी सहित अन्य विशयों तथा सामान्य ज्ञान की जानकारी न के बराबर है। इस सम्बन्ध में उन्होंने अध्यापकों को बच्चों की पढाई का स्तर बढाने के साथ नियमित विद्यालय में उपस्थित रहने के सख्त निर्देष दिये। कक्षा कक्षों का निरीक्षण करने पर पाया कि कच्चे फर्ष में बच्चे बैठ रहे है जिस पर उन्होंने अध्यापकों को कडी फटकार लगाते हुए सी.आर.सी को कमरों की मरम्मत के निर्देष दिये। मध्यान्ह भोजन के चावलों का अवलोकन करने पर पाया गया कि मोटे चावल बनाये जा रहे हैं इस सम्बन्ध में अध्यापकों से मोटे चावलों का उठान न करने के निर्देष दिये। इसके बाद जिलाधिकारी ने सिमगढी गांव का दौरा कर ध्वस्त सिंचाई गूल जो बन्द पडी थी, के सम्बन्ध में संबधित विभागीय अधिकारी को तत्काल गूल को ठीक करने के निर्देष दिये। गांव में लोगों से मुलाकात कर उनकी समस्याओं को सुना। ग्रामीणों द्वारा बताया गया कि गांव में झूलते विद्युत तारो से खतरा हो रहा है। इस सम्बन्ध में जिलाधिकारी ने विद्युत विभाग के अधिकारी को तत्काल विद्युत लाईन ठीक कराने के निर्देष दिये। पी0एम0जी0एस0वाई0 द्वारा निर्माणाधीन मोटर मार्ग का निरीक्षण करते हुए लोगों की मांग थी कि मोटर मार्ग का गांव तक सम्पर्क नहीं हो रहा है इस सम्बन्ध उन्होंने पी0एम0जी0एस0वाई0 के अधिषासी अभियन्ता को तत्काल रिवाईज इस्टीमेट तैयार कर गांव को सड़क से जोडने के निर्देष दिये। उन्होंने निर्माणाधीन पुल में लगे मजदूरों के लिए ठेकेदार को एक सप्ताह के अन्दर षौचालय निर्माण के निर्देष दिये। जिलाधिकारी ने सोराग गांव पहुॅंचने पर षौचालय निर्माण कार्यो का निरीक्षण करते हुए लोंगों की समस्याओ को सुना। जखेडा गांव पहुॅचने पर ग्रामप्रधान ईष्वर प्रसाद ने गांव में दूरभाश कनैक्टीविटी निरन्तर संचालित न होने पर उन्होंने दूरभाश के अधिकारी को नेटवर्क चालू रखने के निर्देष दिये। ग्रामप्रधान ने षिकायत की कि उनके गांव में खडिया खनन मालिक द्वारा सीमा से बाहर खनन किया जा रहा है जिससे उनकी कृशि भूमि को नुकसान पहुॅंच रहा है इस सम्बन्ध में उन्होंने पटवारी को मौके पर जाकर जाॅंच के निर्देष दिये। ग्राम प्रधान के लाहूर नदी में जीर्णक्षीर्ण पैदल झूला पुल की मरम्मत की मांग पर जिलाधिकारी ने लोक निर्माण विभाग को तत्काल प्रस्ताव तैयार करने के निर्देष दिये। जिलाधिकारी ने भ्रमण के दौरान वापसी में कमेडी दुग्ध केन्द्र का औचक निरीक्षण कर दुग्ध विकास अधिकारी को दुग्ध उत्पादन बढाने के लिए समूहों को सक्रिय करने के निर्देष दिये। उन्होंने प्रतिदिन दुग्ध उत्पादन पंजिका का अवलोकन करने तथा केन्द्र में सफाई व्यवस्था दुरूस्थ रखने के निर्देष दिये। भ्रमण के दौरान उनके साथ जिला विकास अधिकारी के0एन0तिवारी,मुख्य कृशि अधिकारी वी.पी.मौर्या,खण्ड विकास अधिकारी गरूड़ गोविन्द सिंह बोरा,अधिषासी अभियन्ता पी.एम.जी.एस.वाई. राजेन्द प्रसाद सहित अन्य विभागीय अधिकारी मौजूद थे।

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।

Comments

comments