गंगोत्री धाम के कपाट शीतकाल के लिए बंद

0
400

गंगोत्री धाम के कपाट शीतकाल के लिए बंद
Gangotri dham close winter seassion

देहरादून हिंदुओं के धाम गंगोत्री के कपाट शीतकाल के लिए बंद कर दिए गए वहीं यमुनोत्री और केदारनाथ मंदिर के कपाट भैया दूज के दिन एक नवंबर और बदरीनाथ धाम के कपाट 16 नवंबर को बंद होंगे।
दोपहर करीब दोपहर करीब डेढ़ बजे विधि विधान के साथ मंदिर के कपाट बंद हुए । इसके बाद मा गंगा की भोग मूर्ती गंगोत्री से रवाना हुई। भैया दूज के दिन एक नवंबर को मुखवा स्थित गंगा मंदिर में इसे स्थापित किया जाएगा। यहीं पर शीतकाल में मां गंगा की पूजा अर्चना हो सकेगी।
केदरनाथ के कपाट एक नवंबर हो होंगे बंद
रुद्रप्रयाग जनपद में स्थित भगवान शिव के पंच केदारों में प्रथम केदार के रुप में पहचान रखने वाले केदानाथ धाम के कपाट एक नवम्बर को सुबह साढ़े आठ बजे बंद होंगे। तीन नवम्बर को बाबा केदार की चल विग्रह उत्सव डोली नगाड़ों के साथ अपने शीतकालीन गद्दीस्थल ओमकारेश्वर मंदिर ऊखीमठ में स्थापित की जाएगी। द्वितीय केदार मधमहेश्वर धाम के कपाट 22 नवम्बर को सुबह आठ बजकर 22 मिनट पर बंद होंगे। अपने चौथे पड़ाव में बाबा मधमहेश्वर की डोली भी ओमकारेश्वर मंदिर में पहुंचेगी।
यमुनोत्री के कपाट होंगे भैया दूज को बंद
उत्तरकाशी जनपद में यमुनोत्री धाम के कपाट भी भैया दूज को एक नवंबर को दोपहर 12 बजकर 15 मिनट बंद होंगे। इसी दिन यमुनोत्री से मां यमुना की भोग मूर्ती खरसाली स्थित यमुना मंदिर को रवाना होगी। करीब पांच किलोमीटर का सफर तय करने के बाद इसे इसी दिन यमुनोत्री मंदिर में स्थापित कर दिया जाएगा।
बदरीनाथ में 12 नवबंर से शुरू होंगी पंच पूजा
जनपद चमोली में स्थित भगवान विष्णु के प्रसिद्ध मंदिर बदरीनाथ के कपाट 16 नवंबर दोपहर तीन बजकर 45 मिनट पर बंद होंगे। इसके लिए 12 नवबंर से बदरीनाथ में पंच पूजाएं शुरू होगी।

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।

Comments

comments