गंगा घाट पर देशी विदेशी योग साधको की साधना

0
458

गंगा घाट पर देशी विदेशी योग साधको की साधना
तीर्थनगरी ऋषिकेश के परमार्थ निकेतन आश्रम में आज से योग साधना का महा समागम यानी इंटरनेशनल योग महोत्सव आगाज़ हुआ सीएम हरीश रावत ने इंटरनेशनल योग महोत्सव का शुभारंभ किया। इस मौके पर सीएम के साथ पर्यटन मंत्री दिनेश धनै, राजकुमार अग्रवाल, स्वामी चिदानंद मुनी महाराज, पुर्तगाल के मौजी बाबा और ब्राजील के प्रेम बाबा के साथ ही देश-विदेश से आए सैकडों योग साधक भी मौजूद रहे।
इस योग साधना में देश विदेश के हज़ारो योग करने वाले लोग शामिल हुए है राज्य सरकार का मकसद इस योग के माध्यम से उत्तराखंड में पर्यटन को बढ़वा देना भी है वही राज्य सरकार बीते दिनों राज्य में खेलो को लेकर माहोल तैयार कर पाने भी कामयाब हुई है देहरादून और हल्द्वानी में हुई लोगो के हुजूम से राज्य सरकार काफी उत्साहित नज़र आई है उत्त्तराखण्ड के लोगो ने अब तक टीवी चॅनेल पर देखे जाने वाला खेल अपनी आखो से दिखा हलाकि भाजपा इस खेल को लेकर अब विधानसभा में अपनी राजनैतिक रेसलिंग की तैयारी में भी जुट गयी है सरकार को निशाने पर लेकर कई तरह के सवाल भी उठाये जा रहे है सरकार सदन में आगामी ९ मार्च से सुरु हो रहे सत्र को लेकर अपनी तैयारी में जुट गयी है
विदेशी योग साधक बन गए आक्रषण का केंद्र
इससे पहले, परमार्थ निकेतन में मंगलवार सुबह चार बजे से ही योग की गतिविधियां होने लगी। जिसमें योग साधना, ओशो मेडिटेशन, पारंपरिक स्वास्थ्य योग, सूर्य उदय, नादयोग समेत कई योग क्रियाएं कराई गईं। एक से सात मार्च तक आयोजित हो रहे इस इंटरनेशनल योग फेस्टिवल में शिरकत के लिए सोमवार सुबह से ही विदेशी साधकों की आवक बढ़ने लगी थी। इंटरनेशनल योग फेस्टिवल में विदेशी प्रतिभागियों, साधकों से लक्ष्मणझूला, स्वर्गाश्रम के लगभग सभी होटल, आश्रम, लॉज भी पैक हो गए हैं। क्षेत्र में चल रहे अर्द्धकुंभ मेले के बावजूद कम भीड़ भाड़ से मायूस स्थानीय व्यापारियों के चेहरों पर महोत्सव में उमड़े पर्यटकों की बढ़ती भीड़ से मुस्कान लौट आई है। परमार्थ निकेतन आश्रम के सूत्रों के अनुसार बीते साल हुए 16वें अंतरराष्ट्रीय योग महोत्सव में 60 देशों के करीब 1000 से ज्यादा योग साधक आए थे। लेकिन इस साल इंटरनेशनल योगा वीक में करीब 72 देशों के 1100 योग साधक भाग ले रहे हैं।एक सप्ताह तक चलने वाले इंटरनेशनल योग फेस्टिवल में अलग-अलग दिनों के हिसाब से कार्यक्रम निर्धारित करते हुए योगा क्लासेस और प्रैक्टिस होनी है। इस दौरान योग गुरु और योगाचार्य कई बीमारियों से बचाव और इलाज के नजरिये से भी लोगों को योग का प्रशिक्षण देते हैं। इस बार के योगा फेस्टिवल के लिए भी शेड्यूल तैयार हो चुका है। फेस्टिवल में शामिल हो रहे लोगों को सातों दिन अलग-अलग प्रकार से योग की प्रैक्टिस कराई जाएगी और उन्हें जरूरी जानकारियां दी जाएंगी।

गढ़वाल कुमाऊंनी संस्कृति भी रही मौजूद

परमार्थ निकेतन आश्रम में आयोजित अंतरराष्ट्रीय योग महोत्सव में इस बार साधकों के लिए गढ़वाली और कुमाऊंनी संस्कृति आकर्षण का मुख्य केंद्र होगी। महोत्सव में इजराइल, जर्मनी, जापान, चीन, भारत और अमेरिका से शामिल हो रहे कलाकार अपनी संस्कृति और संगीत की झलक से साधकों को मंत्रमुग्ध करेंगे। साथ ही उत्तराखंड के लोक संगीत के कार्यक्रमों के बीच ही पहाड़ के विभिन्न व्यंजनों को भी विदेशी मेहमानों के लिए परोसा जाएगा। पर्यटन विभाग को भी उम्मीद है कि हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी इंटरनेशन योग फेस्टिवल के जरिये विश्व भर में उत्तराखंड टूरिज्म की तरफ टूरिस्ट जरूर आकर्षित होंगे और देवभूमि के योग का जलवा सात समंदर पार भी नजर आएगा।

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।

Comments

comments