गैरसैण क्यों हुआ बदनाम जानकर हो जायेगे हैरान

0
144

गैरसैण क्यों हुआ बदनाम जानकर हो जायेगे हैरान Gairsain uttarakhand why badnam Gairsain uttarakhand why badnam

उत्तराखंड में अभी तक यहाँ की सरकारे सत्ता में आने के बाद अभी तक राज्य की राजधानी का फैसला नहीं कर पायी है सोलह साल में किसी भी सरकार की इतनी हिम्मत नहीं हो पायी जो इस मामले को लेकर राजधानी तय कर सके लेकिन अस्थीय राजधानी गैरसैण के इस युवक ने ऐसा कारनामा कर वह के नाम को बदनाम किया है जिस को सुनकर आप भी हैरान हो जायेगे

युवतियों से दोस्ती रचकर शादी करने के बाद दहेज हड़पने वाले नकली कमांडेंट को पुलिस ने गिरफ्तार किया है । एक युवतीको धोखा देने के बाद दूसरी को भी अपना शिकार बना चूका गैरसैण का ये लाल अपना नाम तो बदनाम कर चूका उसने पुरे गैरसैण के नाम को ही बदनाम कर दिया है उसकी पोल जब खुली तो ससुराल वालों ने उसे पुलिस के हवाले कर दिया।

ऐसे खुला ये मामला
धोखाधड़ी का मामला तब खुला जब धोखा खा चुकी रुडकी की लडकी का फेसबुक पर दूसरी नवविवाहिता से संपर्क हुआ। यह भी खुलासा हुआ कि हरिद्वार के गंगनहर थाने में फर्जी असिस्टेंट कमांडेंट के खिलाफ पूर्व में मुकदमा दायर है। इधर दहेज के दो लाख रुपये लेने ससुराल पहुंचे ठग को ससुरालियों ने पुलिस के सुपुर्द कर दिया।

कुलदीप जोशी की करतूत से बदनाम हुआ गैरसैण

खुद को सीआइएसएफ में असिस्टेंट कमांडेंट बताने वाले 23 वर्षीय कुलदीप कुमार उर्फ काला उर्फ कुलदीप जोशी पुत्र रामप्रसाद काला निवासी पजयाडा, गैरसैण की कुछ माह पूर्व फेसबुक पर गनियाद्योली की लडकी से दोस्ती हो गई।उसके बाद शादी करने के बाद नोटों की खनक से बदल लेता था अपना ईमान

लोक निर्माण विभाग की युवती बनी शिकार
युवती लोनिवि में क्लर्क के पद तैनात है। कुछ समय बाद युवक ने विवाह का प्रस्ताव रखा। असिस्टेंट कमांडेंट के ऑफर को महिला क्लर्क ने स्वीकार कर लिया। बीती चार मई को विवाह तय हुआ। कुलदीप ने रानीखेत आकर एक मंदिर में महिला क्लर्क से शादी कर ली। युवती को पता भी नहीं चल पाया की जिस के साथ वो सात बंधन का रिश्ता बना रही वो रिश्ता जल्द टूट जायेगा

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।

Comments

comments