गदरपुर तहसील में कागजों में हेराफेरी कर हड़पी जमीन

0
484

गदरपुर तहसील में कागजों में हेराफेरी कर हड़पी जमीन

, रुद्रपुर : गदरपुर तहसील में कागजों में हेराफेरी कर एक किसान की बेशकीमती भूमि हड़प ली गई। प्रॉपर्टी डीलर ने बराखेड़ा गांव के एक खसरे में जमीन का सौदा किया। जबकि पड़ोसी गांव रामजीवनपुर के खसरे में कब्जा दे दिया। पहले खसरे पर स्टे की आड़ में दूसरे खसरे पर निर्माण भी कर दिया। प्रॉपर्टी डीलर ने राजस्व कर्मियों की मिलीभगत से इस जालसाजी को अंजाम दिया। इस भूखंड का बाजार भाव तीन करोड़ से अधिक है। पीड़ित ने जिलाधिकारी ने इंसाफ की गुहार लगाने के साथ ही आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है। साथ ही कार्रवाई न होने पर पीएमओ कार्यालय के समक्ष अनशन पर बैठने की चेतावनी दी है।
रामजीवनपुर ग्राम में सतजीत ¨सह गुलाटी पुत्र हरमेंदर ¨सह के नाम पर वर्ग एक क के तहत खसरा संख्या 171 में 0.518 हेक्टेयर भूमि दर्ज है। सतजीत ¨सह ने वर्ष 2009 में 0.329 हेक्टेयर भूमि अकृषक में परिवर्तित कराई थी। वर्ष 2010 में इस भूखंड को बैंक में बंधक रखकर 25 लाख का लोन भी लिया। इस बीच भूमि के मालिकाना हक को लेकर सतजीत और प्रॉपर्टी डीलर के बीच विवाद हो गया। यह मामला मामला कोर्ट पहुंचा और 22 फरवरी 2012 को अदालत से सतजीत ¨सह के पक्ष में स्टे दे दिया। आरोप है कि इसके 10 दिन बाद ही प्रॉपर्टी डीलर ने राजस्व कर्मियों की मिलीभगत से सतजीत ¨सह के खसरा संख्या से सटे बरखेड़ा ग्राम के खसरा संख्या 330 का मामला उठाकर स्टे ले लिया। इस स्टे की आड़ में भूखंड पर निर्माण शुरू कर दिया। आरोप है कि खसरा संख्या 171 की मेढ़ को तोड़कर सतजीत ¨सह की लगभग एक एकड़ भूमि खसरा संख्या 330 में मिला दी गई। इधर, शुक्रवार को मुख्यालय पहुंचे किसान ने जिलाधिकारी से इंसाफ दिलाने की मांग की। किसान ने कहा कि राजस्व कर्मियों की मिलीभगत से प्रॉपर्टी डीलर ने भूमि पर कब्जा कर निर्माण कर लिया। राजस्व कर्मी प्रशासन को गुमराह करते आ रहे हैं। किसान ने इंसाफ न मिलने पर पीएमओ कार्यालय के समक्ष अनशन पर बैठने की चेतावनी दी है।

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।

Comments

comments