जनपद बनेगा फ़ूड प्रोसेसिंग हब

0
79

हल़्द्वानी: जनपद में कृषि एवं फलोत्पादन के क्षेत्र में दिन प्रतिदिन मजबूत होते जा रहे बुनियादी ढ़ांचे और बढ़ रही संभावनाओं के चलते जनपद को फूड प्रोसेसिंग हब के रूप में विकसित करने के लिए शासन एवं प्रशासन द्वारा उद्यमियों को हर संभव मदद उपलब्ध करायी जायेगी। यह बात जिलाधिकारी विनोद कुमार सुमन ने जनपद में खाद्य प्रसंस्करण से जुड़े उद्यमों को विकसित करने एवं उद्यमियों को जागरूक करने के लिए विकास खण्ड सभागार में आयोजित कार्यशाला में कही।

युवाओं को मिलेगा उद्योग:

ब्लाॅक प्रमुख भोला दत्त भट्ट ने कहा कि सरकारी क्षेत्रों में रोजगार के सीमित अवसर होने के कारण युवाओं को अपनी प्रतिभा को पहचानते हुए बाजार की मांग एवं आपूर्ति के अनुसार अपना सूक्ष्म एवं लघु उद्योग स्थापित करना चाहिए। उन्होंने कहा कि सूक्ष्म एवं लघु उद्योगों की स्थापना से स्थानीय उत्पादों का उचित मूल्य मिलन के साथ ही रोजगार के अवसरों में वृद्धि होगी और पलायन भी रूकेगा।

जिलाधिकारी विनोद सुमन ने कहा कि जनपद में कृषि एवं फलोत्पादन की क्षमता को देखते हुए फूड प्रोसेंसिंग हेतु चुना गया है। उन्होंने कहा कि भविष्य सवांरने एवं अच्छे कार्य करने के लिए अवसर बार-बार नहीं मिलते हैं, जनपद को जो अवसर मिला है, युवाओं को उसका लाभ उठाना चाहिए। उन्होंने कहा कि उद्योग के क्षेत्र में सफलता की अपार संभावनाएं है, अवसर को पहचान कर सही समय पर सही दिशा में प्रयास करने की है। उन्होंने कहा कि पूरी जानकारियों के संग्रहण के साथ किये गये प्रयास ही व्यक्ति को सफल बनाते हैं, जनपद में फूड प्रोसेंसिंग यूनिट लगाने के इच्छुक व्यक्तियों को जिला प्रशासन द्वारा तत्परता से हर संभव मदद उपलब्ध करायी जायेगी। फूड प्रोसेसिंग के क्षेत्र में जनपद में अपार संभानाएं है, युवाओं एवं उद्यमियों को यूनिट लगाने के लिए मार्केट सर्वे करते हुए आगे आना चाहिए तथा जो यूनिट पहले से स्थापित हैं उन्हे पुनः विश्लेषण करते हुए आधुनिकतम तकनीकि का उपयोग करना चाहिए। सुमन ने उत्पादों की गुणवत्ता, ब्रांडिंग एवं मार्केटिंग आदि के सम्बन्ध में उदाहरण प्रस्तुत करते हुए महत्वपूर्ण सुझाव दिये।

सुमन ने कहा कि बैंक किसी व्यक्ति के विकास में बाधा न बनें, बल्कि सकारात्मक सोच रखते हुए युवाओं को प्राथमिकता से ऋण उपलब्ध कराना सुनिश्चत करें। उन्होंने सभी अधिकारियों तथा बैंकर्स को आपसी तालमेल से कार्य करते हुए उद्यम स्थापित करने के इच्छुक व्यक्तियों को विभिन्न योजनाओं के माध्यम से लाभांवित करने के निर्देश दिये।

मुख्य विकास अधिकारी विनीत कुमार ने कार्यशाला में बताया कि वर्तमान में फूड प्रोसेंसिंग हेतु जनपद में 16 कलस्टर एवं 49 स्थानों की 26 फसलों को चिन्हित किया गया है। उन्होंने बताया कि एमएसएमई योजना के अन्तर्गत फूड प्रोसेसिंग यूनिट के महत्व, संभावना एवं जागरूकता हेतु जनपद के विभिन्न स्थानों पर 19 फरवरी तक 18 कैम्प आयोजित किये जायेंगे और हर कैम्प के लिए एंकर इण्डस्ट्री चिन्हित की गयी है। उन्होंने बताया कि जनवरी माह में लाभार्थियों का चयन किया जायेगा तथा फरवरी माह में सम्बन्धित क्षेत्र में प्रशिक्षण उपलब्ध कराया जायेगा और मार्च माह में उनका प्रस्ताव शासन को प्रेषित किया जायेगा।

कार्यशाला में एसएलबीसी के एजीएम रमेश पन्त ने बैंकिंग प्रणाली, सिडबी के मैनेजर वरूण ने पीएसबीलोन्स 59 मिनट के बारे में, निफ्टेम के असिस्टेंट प्रोफेसर विंकल कुमार अरोरा ने व्यापारिक संभावनाओं के चिन्हांकन, उद्योग के लिए सहायक मैकेनिज्म एवं तकनीकि के साथ ही विभिन्न आधुनिक मशीनों एवं नवीनतम तकनीकियों के बारे में, खाद्य सुरक्षा अधिकारी केसी टम्टा ने विभिन्न प्रकार के लाईसेन्स, पदार्थो की गुणवत्ता के बारे में विस्तार से जानकारी दी। इसके साथ ही दुग्ध उत्पाद बनाने की नवीनतम तकनीकियों, उत्पादों की ई-मार्केटिंग हेतु जेम पोर्टल, के अलावा सरकार द्वारा चलायी जा रही विभिन्न योजनाओं की जानकारी विस्तार से दी गयी।

कार्यशाला में मुख्य कृषि अधिकारी धनपत कुमार, मुख्य पशु चिकित्साधिकारी डाॅ.पीसी भण्डारी, कुमाऊॅ-गढ़वाल चैम्बर्स ऑफ काॅमर्स के सचिव रमेश बिन्दोला, स्वंय सहायता समूहो से मनोहर दत्त जोशी, चंचल काम्बोज, राजकुमार, लता जोशी, पंकज पाण्डेय, मोहित सिंह बिष्ट, बसन्त दुर्गापाल के अलावा अन्य लोग उपस्थित थे।

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।