एफ.आईआर (फस्र्ट इमिडियेट रेंस्पोंस)संकट मोचन बनेगी पुलिस मोबाइल एप्स

0
352

एफ.आईआर(फस्र्ट इमिडियेट रेंस्पोंस)संकट मोचन बनेगी पुलिस मोबाइल एप्स 

FIR [FIRST IMMIDIATE RESPONSE]SANKAT MOCHAN BANEGI POLICE MOBILE APPS

देहरादून पुलिस थानों में मुकदमा दर्ज नहीं करती इस तरह की बातें समय समय पर सामने आती रहती है। लेकिन अब उत्तराखंड में कोई भी अपनी शिकायत दर्ज करवा सकता है यही नहीं अगर किसी भी महिला को पुलिस में अपनी शिकायत दर्ज करवानी है। तो अब उस को थाने के चक्कर लगाने की जरुरत नहीं उत्तराखंड पुलिस ने मोबाइल एप्स राज्य में सुरु कर दी है राज्य में इस मोबाइल एप्स को संकंट मोचन कहा जा रहा है। महिलायो से लेकर हर व्यक्ति को इस मोबाइल एप्स के माध्यम से ‘एफ.आईआर’ (फस्र्ट इमिडियेट रेंस्पोंस) में मदद मिलेगी।

देहरादून गुरूवार को न्यू कैंट रोड़ स्थित मुख्यमंत्री आवास में आयोजित कार्यक्रम में मुख्यमंत्री हरीश रावत ने मोबाईल एप ‘एफ.आईआर’ (फस्र्ट इमिडियेट रेंस्पोंस) का शुभारम्भ किया। मुख्यमंत्री श्री रावत ने मोबाईल पुलिस को बधाई देते हुए कहा कि इस मोबाईल एप्लीकेशन के प्रयोग से संकटग्रस्त व्यक्ति तक पुलिस मदद अविलम्ब पहुंचाने में आसानी होगी। विशेष रूप से महिला अपराधों को रोकने में यह महत्वपूर्ण होगा। मुख्यमंत्री श्री रावत ने कहा कि कालांतर में राज्य महिला आयोग की सहायता से इसके प्रयोग को और व्यापक किया जाएगा। जब एक बार इसका प्रचार हो जाएगा तो अराजक तत्व भी महिलाओं के प्रति हिंसा करने की साहस नहीं करेंगे। पुलिस महानिदेशक एम.ए.गणपति ने बताया कि एफआईआर मोबाईल एप निर्माता कम्पनी द्वारा उत्तराखंड पुलिस को निशुल्क प्रदान किया गया है। उत्तराखंड पुलिस पहले से दो मोबाईल एप्लीकेशन का प्रयोग कर रही है। परंतु इनका उपयोग केवल उत्तराखंड के मोबाईल नम्बर से ही किया जा सकता है। आज लांच किए गए मोबाईल एप ‘एफआईआर’ का उपयोग देश के किसी भी मोबाईल नम्बर से किया जा सकता है। किसी संकट या परेशानी में होने में होने पर मोबाईल के मात्र एक बटन को दबाना होगा। इससे पुलिस कंट्रोल रूम को संबंघित व्यक्ति का नाम, मोबाईल नम्बर व जहां वह व्यक्ति मौजूद है वहां की जानकारी मिल जाएगी। इस जानकारी के आधार पर पुलिस कंट्रोल रूम निकटतम पुलिस स्टेशन से सहायता के लिए एक टीम को तुरंत भेज देगा। इससे दुर्घटना, आपदा की घटना होने या महिलाओं के प्रति अपराध होने पर संबंधित व्यक्ति या महिला को तुरंत महिला सहायता मिलेगी।

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।

Comments

comments