डा0 रंजीत कुमार सिन्हा ने ग्रामीणों से मुलाकात कर उनकी समस्याऐं सुनी।

0
231

डा0 रंजीत कुमार सिन्हा ने ग्रामीणों से मुलाकात कर उनकी समस्याऐं सुनी।

पिथौरागढ़। जिलाधिकारी डा0 रंजीत कुमार सिन्हा द्वारा  विकास खण्ड मूनाकोट के विभिन्न गांवों सिमखोला, पोटली, रूईना एवं दिगांस गांव का पैदल भ्रमण कर गा्रमीणों से मुलाकात कर उनकी समस्याऐं सुनने के साथ ही गांवों में कृषि, औद्यानिक, दुग्ध उत्पादन आदि क्षेत्र में वर्तमान में ग्रामीणों द्वारा किये जा रहे कार्यों के साथ ही इस क्षेत्र में सम्भावनाओं को तलाशे जाने व कार्य किये जाने हेतु जनपदस्तरीय विभिन्न विभागी अधिकारियों के साथ क्षेत्र का भ्रमण किया। भ्रमण के दौरान जिलाधिकारी ने कहा कि इन गांवों को औद्यानिकी, कृषि, पशुपालन के क्षेत्र में विकसित कर स्थानीय लोगों को रोजगार देने के साथ ही उनके आजीविका के साधन बढ़ाये जायेंगे विभिन्न विभागों के माध्यम से इन गाँव में रोजगार के अवसर भी बढ़ायें जायेंगे। इस हेतु संबंधित विभागीय अधिकारी समय समय पर इन गांवों का भ्रमण कर विभागीय योजनाओं का लाभ भी देंगे। गांवों के भ्रमण के दौरान जिलाधिकारी द्वारा चारों गांवों में विभिन्न विभागों कृषि, उद्यान, पशुपालन, मत्स्य, ग्राम्य विकास, बाल विकास, स्वजल समेत अन्य विभागों द्वारा संचालित योजनाओं का निरीक्षण करने के साथ ही इन विभागों द्वारा गांवांे में लाभार्थियों को दी जा रही सुविधा का भी जायजा लिया। भ्रमण के दौरान जिलाधिकारी ने ग्रामीणों से सामूहिक खेती पर बल देने की बात करते हुए मुख्य कृषि अधिकारी, जिला उद्यान अधिकारी एवं विकास विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए कि वो इन गांवों में सामूहिक खेती, औद्यानिकी के विकास हेतु संयुक्त रूप से एक प्रस्ताव तैयार करें जिसमें गांवों के नीचे बह रहे ठुलीगाड से सिंचाई हेतु पानी की व्यवस्था एवं अन्य नालों में चैकडैम निर्माण कर सिंचाई की व्यवस्था करने स्थानीय काश्तकारों को फल, पौध एवं बीज वितरण कराने के साथ ही खेतों के किनारे फलद्वार वृक्ष लगाये जाने व अधिक से अधिक किसानों को उक्त कार्य हेतु प्रेरित करने के साथ ही इन सुविधाओं को शीघ्र मुहैया कराये जाय। जिलाधिकारी ने ग्राम सभा कोटली में सामूहिक रूप से सब्जी एवं फल उत्पादन हेतु एक विस्तृत कार्ययोजना तैयार करने हेतु ग्रामीणों के साथ शीघ्र ही एक बैठक करने के निर्देश कृषि, उद्यान एवं ग्राम्य विकास विभाग के अधिकारियों को दिये। जिलाधिकारी ने कहा कि ग्राम सभा कोटली एंव सिमखोला में औद्यानिकी की अपार सम्भावनाऐं है जिस प्रकार वर्तमान में ग्राम सभा सिमखोला के प्रगतिशील काश्तकार रघुवीर सिंह कार्य कर रहे है इसी प्रकार क्षेत्र के अन्य काश्तकारों को भी औद्यानिकी के कार्य हेतु प्रेरित करने के साथ ही विभागीय योजनाओं का लाभ उन्हें उपलब्ध करायें जिलाधिकारी ने कहा कि नगर पिथौरागढ़ से ये ग्राम सभायें नजदीक भी है अगर इन ग्राम सभाओं में कृषि एवं औद्यानिक क्षेत्र में मदद कर बढ़ावा दिया जाय तो निश्चित रूप से स्थानीय काश्तकारों के उत्पाद पिथौरागढ़ नगर तक पहुंचेंगे। जिलाधिकारी ने ग्रामीणों से अपील की कि वह कृषि एव के क्षेत्र में आगे आते हुए स्वरोजगार को अपनाये। भ्रमण के दौरान जिलाधिकारी ने जिला उद्यान अधिकारी को ग्रमीणों को फलदार पौधें एवं विभिन्न सब्जी बीज उपलब्ध कराने, दुग्ध के क्षेत्र में बेहतर उन्नति की गायों को किसानों को उपलब्ध कराने हेतु मुख्य पशुचिकित्साधिकारी को निर्देश दिए। उन्होंने क्षेत्र में मत्स्य पालन को बढ़ावा दिये जाने हेतु अधिक से अधिक मत्स्य तालाब का निर्माण कराये जाने हेतु सहायक निदेशक मत्स्य को निर्देश दिए। जिलाधिकारी ने जिला विकास अधिकारी को गांवों में मनरेगा से कृषि एवं औद्यानिक उत्पादों को बढ़ावा दिये जाने हेतु विभिन्न कार्ययोजना तैयार करते हुए गांवों में ऐसे कार्य शीघ्र कराने के निर्देश दिए। जिलाधिकारी ने वन विभाग को गांव की वन पंचायतों में चारा प्रजति के पौधें रोपे जाने के साथ ही जंगली जानवरों से फसल को हो रहे नुकसान हेतु घेरवार व सुरक्षा दीवार का निर्माण कराने के भी निर्देश दिए। जिलाधिकारी ने सिमखोला में लद्यु सिंचाई विभाग द्वारा हाइड्रम के माध्यम से करायी जा रही सिंचाई येाजना का भी स्थलीय निरीक्षण करते हुए अधीशासी अभियंता लद्यु सिंचाई को निर्देश दिए कि वह रूईना एवं दिंगास गांव हेतु भी हाइड्रम येाजना से सिंचाई व्यवस्था हेतु शीघ्र ही योजना तैयार कर इन गांवों को भी सिंचाई योजना का लाभ दे। ग्राम सभा दिंगास के पंचायत भवन में जिलाधिकारी द्वारा ग्रामीणों की विभिन्न समस्याऐं भी सुनी जिसमें ग्रामीणों द्वारा वर्तमान में भड़कटिया से गैस सिलैण्डर लाये जाने की समस्यां के साथ ही जिलाधिकारी से गांव में रसोई गैस की गाड़ी उपलब्ध कराये जाने की मांग की गयी उक्त संबंध में जिलाधिकारी ने मौके पर ही जिला पूर्ति अधिकारी को निर्देश दिए कि वह इसी सप्ताह से यह व्यवस्था लागू करना सुनिश्चित करें। इसके अतिरिक्त ग्रामीणों द्वारा बी0पी0एल0 सूची में नाम दर्ज कराये जाने की मांग पर जिलाधिकारी ने क्षेत्रीय ग्राम विकास अधिकारी, पटवारी एवं खण्ड विकास अधिकारी को निर्देश दिए कि वह 15 दिन के भीतर गांवों में वर्तमान तक जो व्यक्ति बी0पी0एल0 श्रेणी में है अगर वह बी0पी0एल0 पात्रधारी नही है तो ऐसे व्यक्तियों को सूची से हटाते हुए सभी पात्र व्यक्तियों को बी0पी0एल0 सूची में लाते हुए उन्हें बी0पी0एल0 क्रमांक जारी करें। उन्होंने कहा कि अगर 15 दिन के भीतर पात्र व्यक्ति बी0पी0एल0 सूची में दर्ज नही होता है और अपात्र व्यक्ति का नाम बी0पी0एल0 श्रेणी से नही हटता है तो संबंधित के खिलाफ सख्त कार्यवाही की जायेगी। इस दौरान ग्रामीणों द्वारा जिलाधिकारी को अवगत कराया कि गांव में अभी भी 25 परिवारों के पास शौचालय नही है उक्त संबंध में जिलाधिकारी ने स्वजल विभाग एवं ग्राम्य विकास विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए कि 1 माह के भीतर इन सभी 25 परिवारों के घरों में शौचालय का निर्माण कराने के साथ ही क्षेत्र में स्वजल विभाग के तैनात कर्मचारी(प्रेरक) को इस लापरवाही हेतु तुरन्त यहां से स्थानान्तरण करने के निर्देश दिए ग्रामीणों द्वारा विगत 9 वर्ष पूर्व पी0एम0जी0एस0वाई के अंतर्गत निर्मित सड़क में ग्रामीणों की काटी गयी भूमि का मुआवजा नही दिये जाने की भी शिकायत रखी गयी जिस पर जिलाधिकारी ने संबंधित विभागीय अधिकारियों को निर्देश दिए कि वह शीघ्र ही ग्रामीणों को उनकी भूमि का मुआवजा देना सुनिश्चित करें। इस दौरान जिलाधिकारी ने गांव की एक गरीब महिला नीला देवी की परितक्तयता पेंशन भी मौके पर ही स्वीकृत की गयी इसके अतिरिक्त गांव की तुलसी देवी जिसके पास वर्तमान में मकान नही है उसे प्राथामिकता के तहत आवास उपलब्ध कराये जाने के निर्देश खण्डविकास अधिकारी मूनाकोट को दिये। ग्राम सभा दिंगास में वर्तमान तक मुख्यमंत्री स्वास्थ्य बीमा येाजना के कार्ड वितरित न किये जाने पर जिलाधिकारी ने नाराजगी व्यक्त करते हुए स्वास्थ्य विभाग को निर्देश दिए कि अगर एक सप्ताह के भीतर स्वास्थ्य कार्ड नही बांटे गये तो संबंधित के खिलाफ सख्त कार्यवाही अम्ल में लायी जायेगी। जिलाधिकारी ने भ्रमण के दौरान ग्राम विकास अधिकारी, ग्राम पंचायत विकास अधिकारी एवं क्षेत्रीय पटवारी को निर्देश दिए कि वह सभी ग्राम सभाओं में संचालित येाजनाओं के साथ ही सभी जानकारियां अपडेट रखे जाने के साथ ही ग्राम पंचायत अधिकारी की जिम्मेदारी है कि गांव में जो भी कार्य संचालित हो उसकी सम्पूर्ण जानकारी अपने स्टाक रजिस्टर में अंकित करना सुनिश्चित करें। इस दौरान जिलाधिकारी द्वारा प्राथामिक पाठशाला एवं आंगनबाड़ी केन्द्र दिंगास का भी निरीक्षण कर आंगनबाड़ी केन्द्र के माध्यम से दिये जा रहे टैकहाॅम राशन की भी जानकारी ली। भ्रमण के दौरान पीडी0 डी0आर0डी0ए0 नरेश कुमार, जिला विकास अधिकारी गोपाल गिरी, मुख्य कृषि अधिकारी अभय सक्सेना, जिला उद्यान अधिकारी डा0 मीनाक्षी जोशी, जिला पूर्ति अधिकारी मनोज बर्मन, अधीशासी अभियंता लोनिवि नवीन जोशी, प्रधान दिंगास हीरा देवी, खण्ड विकास अधिकारी मूनाकोट दिनेश सिंह दिगारी समेत विभिन्न विभागों के अधिकारी/कर्मचारी, जनप्रतिनिधि, क्षेत्रीय जनता, ग्रामीण आदि उपस्थित थे।

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।

Comments

comments