दून विवि बना अवैध नियुक्तियों का अड्डा जाँच की मांग हुई तेज़

0
383

दून विवि बना अवैध नियुक्तियों का अड्डा जाँच की मांग हुई तेज़
देहरादून स्टूडेंट्स फेडरेशन ऑफ़ इंडिया ( SFI) राज्य कमेटी द्वारा दून विवि में नियुक्तियों में हो रही अनियमितताओं को लेकर छात्रों की लोकतान्त्रिक आवाज को दबाने के विरोध स्वरूप लैंसडाउन चौक, घंटाघर पर दून विवि के कुलपति का पुतला दहन किया गया और दून विवि के कुलपति का इस्तीफा माँगा | इस अवसर पर मुख्यमंत्री, उच्च शिक्षा मंत्री श्रीमती इंदिरा ह्य्र्देश को ज्ञापन प्रेषित कर मांग की गयी की 31 मई को कुलपति द्वारा फर्जी तरीके से तथा नियमो को नजरअंदाज कर अपने लोगो को घुसाने के लिए अर्थशास्त्र विभाग में इंटरव्यू किया जा रहा, मुख्यमंत्री तथा उच्च शिक्षा मंत्री से इंटरव्यू पर तत्काल रोक लगाने की मांग की है ओर साथ ही मांग की है की कुलपति के कार्यकाल में हुई सभी नियुक्तियों, प्रमोशनो, विवि के धन के हुए समस्त उपयोग पर न्यायिक जाँच बैठा कर कुलपति महोदय ओर उनके साथ सम्मिलित लोगो पर कड़ी कार्यवाही की जाय |

इस अवसर राज्य सचिव देवेन्द्र सिंह रावल ने कहा कि यूजीसी द्वारा हालहिं में 4 मई को प्रोफ़ेसर ओर एसोसिएट प्रोफेसरों की नियुक्तियों में हो रहे घोटाले को रोकने के लिए UGC गाइडलाइन- 2010 के तृतीय संसोधन की अधिसूचना जारी की है, जो 4 मई से तत्काल प्रभाव के रूप में देशभर में लागू है, इस अधिसूचना को नजरअंदाज कर आनन्-फानन में इंटरव्यू रखा गया है | इस अधिसूचना में API आकलन करने की प्रक्रिया में बदलाव किया गया है, जिसके तहत जो अभ्यार्थी इस इंटरव्यू के लिए चयन किये है उनकी सूची बनाने में इस अधिसूचना को नजरअंदाज किया गया है | इस अधिसूचना में ओर भी बिंदु है जिसमे ये अभ्यार्थी चयनित नही हो सकते है, अत: हमारी मांग है की इस इंटरव्यू को तत्काल रोका जाए ओर अधिसूचना को ध्यान में रखते हुए नए तरीके से भर्ती प्रक्रिया को शुरू किया जाए | साथ ही उन्होंने कहा कि एसोसिएट प्रोफ़ेसर की नियुक्ति पे बैंड-4 में होती है ओर इसके लिए अभ्यार्थी को आवेदन करते समय इस पे बैंड से ठीक पहले के पे बैंड यानि की पे बैंड-3 में होना आवयशक है, जबकि इसमें चयनित अभ्यार्थी निजी शिक्षण संस्थानों में कार्यरत है ओर वो पे बैंड-3 में नही आते है |

राज्य उपाध्यक्ष विपिन जोशी ने कहा कि विभाग में एसोसिएट प्रोफ़ेसर के लिए 2 पद रिक्त है ओर इंटरव्यू के लिए भी केवल 2 ही लोगो को बुलाया गया है जो की सैधांतिक तरीके से गलत है, इस इंटरव्यू को इतनी हड़बड़ी में किया जा रहा है की केवल अपने लोगो का किसी भी तरह से भर्ती किया जाए | दून विवि ने इस चयन अभ्यर्थियों की सुचना 13 मई को विवि की वेबसाइट पर जारी की, जबकि इससे पहले राज्य में राष्ट्रपति शासन लगा हुआ था | लम्बे समय से कुलपति ने इस इंटरव्यू प्रक्रिया को टाल कर रखा हुआ था, राष्ट्रपति शासन का लाभ उठाते हुए भ्रष्ट कुलपति ने आनन्-फानन में चयन प्रक्रिया की |

इस अवसर पर उपस्थित पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष डी.ए.वी. पीजी कॉलेज लेखराज ने कहा कि महोदय विवि प्रशासन द्वारा पहले से भी जो नियुक्ति की गयी है ओर गलत तरीके से की गयी है, बड़े स्तर पर नियुक्ति प्रक्रिया में अनियमिताएँ सामने आई है, हमारी मांग है की इस भ्रष्ट कुलपति के कार्यकाल में जो नियुक्तिया एवं प्रमोशन हुए है उनकी न्यायिक जाँच की जाए |

जिला सचिव राजेश चौहान ने कहा कि विवि प्रशासन में छात्र-छात्राओं के लोकतान्त्रिक अधिकारों को दबाया जाता है ताकि कोई भी विवि प्रशासन के काम पर ऊँगली न उठा सके |
इस अवसर पर मुख्य रूप से हिमांशु चौहान, विपिन पंवार, विनीता रावत, प्रचिता चौहान, दीपक, सत्यम राजपूत, शुभम दुबे, मोहित भरद्वाज, कुलदीप चौहान, विकास सैनी,नितिन मलेठा, रवि भट्ट व कार्यक्रम में बड़ी संख्या में SFI के कार्यकर्त्ता एवं दून विवि के छात्र व छात्राएं उपस्थित थे |

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।

Comments

comments