धर्म व राष्ट्र पर बहस के लिए दी मान को खुली चुनौती

0
498

धर्म व राष्ट्र पर बहस के लिए दी मान को खुली चुनौती

अम्बाला-जन गन मन राष्ट्रगान को सिख नही मानते क्योंकि सिखों का राष्ट्र गान देह शिवा बर मोहि है इसलिए सिख सुप्रीम कोर्ट के आदेशो के बाद भी सिनेमाघरों में राष्ट्रगान के दौरान सिख खड़े नहीं होंगे इस बारे में श्री हिन्दू तख़्त की आपात बैठक श्री हिन्दू तख़्त के धर्माधीश जगतगुरु पंचानंद गिरी जी महाराज के नेतृत्व में वीरेश शांडिल्य के निवास पर हुई और जिसमे जगतगुरु पंचानंद गिरी ने कहा की किसी कीमत पर भी शिरोमणि अकाली दल (अमृतसर) के प्रधान एवं पूर्व आईपीएस सिमरनजीत सिंह मान को पंजाब व देश में हिन्दू-सिख भाईचारे को श्री हिन्दू तख़्त कमजोर करने की साजिश नहीं रचने देगा l उन्होंने सिमरनजीत सिंह मान को किसी स्कूल में दाखिला लेकर शिक्षा ग्रहण करने की नसीहत दी की पहले धर्म व राष्ट्र के बारे में मान ज्ञान प्राप्त करें ना की हिन्दू-सिख भाईचारे को कमजोर करने की साजिश रचे l श्री हिन्दू तख़्त के धर्माधीश ने कहा की सिमरनजीत सिंह मान के इस ब्यान पर वह ना केवल डीजीपी पंजाब को शिकायत देंगे बल्कि उनके खिलाफ हाईकोर्ट में भी याचिका दायर करेंगे क्योंकि सिमरनजीत सिंह मान ने सुप्रीम कोर्ट के आदेशों को भी ललकारा है l वही उन्होंने कहा की सिमरनजीत सिंह मान ने यह कहकर देश को तोड़ने की कौशिश की जन-गन-मन को सिख राष्ट्रगान नहीं मानते उनका राष्ट्रगान तो देह शिवा बर मोहि है l इस पर पंचानंद गिरी ने कहा की श्री हिन्दू तख़्त सिमरनजीत सिंह मान इन दोनों बातों का मतलब बताना चाहता है जब देह शिवा बर मोहि इससे हिन्दू और सिखों की धार्मिक भावनाएं भी जुड़ी हुई है और राष्ट्रगान से हमारी राष्ट्रीय भावनाएं जुडी हुई है l वही उन्होंने कहा की सिमरनजीत सिंह मान अपना मानसिक संतुलन खो चुके है इसीलिए वह कह रहे है की तिरंगा उनका झंडा नहीं निशान साहिब उनका झंडा है l उन्होंने उसपर भी कहा निशान साहिब के हिन्दू धर्म की भी धार्मिक भावनाएं जुडी हुई है जबकि तिरंगा राष्ट्र का प्रतीक,शहादत का प्रतीक,हरियाली,शान्ति,वीरता का प्रतीक व विश्व में भारत की पहचान है भारत का चिन्ह है उन्होंने कहा की धर्म व राष्ट्र के बीच क्या अंतर है पहले यह जानने के लिए सिमरनजीत मान किसी अच्छे स्कूल में शिक्षा ग्रहण करें उन्होंने कहा ऐसा लगता है की उन्होंने आईपीएस का पेपर भी नक़ल से पास किया होगा l वही बैठक में आवाज़-ए-हिन्दुस्तान के राष्ट्रीय अध्यक्ष व श्री हिन्दू तख़्त के राष्ट्रीय प्रचारक वीरेश शंदिल्या व आल इंडिया हिन्दू स्टूडेंट फेडरेशन के उत्तर भारत प्रमुख निशांत शर्मा ने सिमरनजीत सिंह मान को धर्म व राष्ट्र के मुद्दे पर खुली बहस की चुनौती दी l उन्होंने कहा देश सेवा से बड़ा इस दुनिया में कोई धर्म नहीं है और सिमरनजीत सिंह मान को पंजाब में नहीं बल्कि पूरे देश में हिन्दू-सिख भाईचारे को खंडित करने नहीं देंगे l साथ ही शांडिल्य ने कहा की सिमरनजीत सिंह मान इस तरह की ब्यानबाजी से परहेज करें जिससे राष्ट्र की सुरक्षा को ही खतरा हो जाए साथ ही उन्होंने कहा की सिमरनजीत सिंह मान बताएं की किस ग्रन्थ में उन्होंने यह पढ़ा जहा धर्म व राष्ट्र एक समान हो या राष्ट्र से बड़ा धर्म हो l श्री हिन्दू तख़्त व आवाज़-ए-हिन्दुस्तान ने कहा की सिमरनजीत सिंह मान हिन्दू-सिख भाईचारे को मजबूत करें और अपने इस ब्यान को खेद सहित वापिस लें क्योंकि देश की एकता और अखंडता से बड़ा कुछ नहीं l इस अवसर पर स्वामी अग्निगिरी,राजेश कहर,कुलवंत सिंह मानकपुर,अशोक अग्रवाल आदि मौजूद थे l

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।

Comments

comments