Dainik Jagran vikashnagar journlist land scam investigation:बंज़र जमीन पर पत्रकार का खेल, जांच हुई तो बेनकाब हुआ सच

0
500

Dainik Jagran vikashnagar journlist land scam investigation: बंज़र जमीन पर पत्रकार का खेल, जांच हुई तो बेनकाब हुआ सच
देहरादून पत्रकार का काम गलत बातो का समर्थन करना नहीं होता जबकि सरकारी सिस्टम के सामने उजागर कर सच दिखा देना होता है लेकिन उत्तराखंड में एक बड़े समाचार पत्र का पत्रकार इन दिनों सरकारी बंज़र जमीन को अपने नाम किये जाने के मामले की जांच में फ़स गया है उधमसिंहनगर के नेशनल हाईवे मामले की तरह इस जमीनी खेल के लिए सरकारी मिलने वाली रकम को ठिकाने लगाए जाने का खेल वर्ष 2016 में अंजाम दिया गया था जबकि इस जमीन के मुआवजे को लेकर सरकारी नाप इससे पहले अंजाम दी गयी थी जिसके बाद बंज़र जमीन एक वयक्ति द्वारा अपने नाम दर्ज़ करवा ली गयी जो कई तरह के सवालो को जन्म देता है।

आप को भी उस पत्रकार के नाम को लेकर काफी चकित होना पड़ेगा की आखिर समाज का चौथा स्तम्भ कहे जाने वाला मीडिया के नाम पर इस तरह का जमीनी फ़र्ज़ी खेल भी अंजाम दे सकता है त्यूणी निवासी चंदराम राजगुरु जो वर्तमान में दैनिक जागरण का पत्रकार बताया जा रहा है जिसको लेकर खबर है वो इन दिनों जमीन की जांच को लेकर सरकारी अधिकारी के निशाने पर बना हुआ है देहरादून में कई समाचार पत्रों के यहाँ अपने खिलाफ आने वाली खबरों को रुकवाए जाने के लिए कोशिश में लगा हुआ है भड़ास फॉर इंडिया ने जब जमीन को लेकर चंदराम राजगुरु से बात की तो जमीन के कागज उपलब्ध करवाए जाने को लेकर कोई कागज़ नहीं उपलब्ध करवाया गया।

देहरादून में बीते दिनों गढ़वाल मंडल आयुक्त दिलीप जावलकर के पास त्यूणी निवासी संगीता नोटियाल ने शिकायत दर्ज़ कर कहा की त्यूणी निवासी चंदराम राजगुरु ने त्यूणी मोटर मार्ग पर बंज़र जमीन को अपने नाम करवा कर सरकारी मुआवजा लेने के लिए अधिकारियो की मिलीभगत से इस काम को अंजाम दिया गया है शिकायती पत्र में कहा गया है बंज़र जमीन को अपने नाम दर्ज़ करवाने वाला चंद राम राजगुरु का मामला जब तूल पकड़ रहा था तब इस मामले को लेकर अभी मोटर मार्ग का काम भी रुकवा दिया गया है इस मामले की जांच के लिए एसडीऍम कोर्ट में अभी वर्तमान में सुनवाई चल रही है जहाँ पर अधिकारी भी मान रहे है की गलत तरह से जमीन को अपने नाम करवा कर सरकारी अधिकारियों को भी गुमराह किया गया है सवाल ये भी उठ रहा है की अगर बंज़र जमीन किस तरह सरकारी अभिलेखों में एक व्यक्ति के नाम दर्ज़ करवाई गयी है इस मामले को लेकर जल्द कारवाही होने की उम्मीद की जा रही है जांच के बाद इस मामले पर कई अधिकारी भी गाज गिरनी तय है।

देहरादून में मीडिया जगत के अंदर इस तरह के मामलो को लेकर अगर एक पत्रकार के खिलाफ जांच में आरोप सही पाए जाते है तो मीडिया जगत में ऐसे लोगो का रहना सही नहीं पत्रकारिता की कलम को सच लिख कर जनता के सामने लाया जाना जरुरी होता है ऐसे में सच तो दूर जब मीडिया के ऐसे लोग बंज़र जमीन पर अपना नाम लिखा कर उसको सरकारी लाभ के लिए अपने नाम करवा लेंगे तो खबर लिखना तो दूर पूरी मीडिया बिरदारी के लिए ऐसे लोगो से दुरी बना कर मीडिया के सच को उजागर किया जाना जरुरी है

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।

Comments

comments