कांग्रेस को दिनेश की राजनैतिक धमकी हिम्मत है तो खड़ा करे टिहरी में उम्मीदवार

0
938

कांग्रेस को दिनेश की राजनैतिक धमकी हिम्मत है तो खड़ा करे टिहरी में उम्मीदवार
देहरादून सत्ता की मलाई चाट चुके निर्दलीय विधायक अब एक बार फिर कांग्रेस के बिना चुनाव लड़े जाने की बात का बखान कर रहे है। वर्तमान समय में टिहरी विधानसभा से निर्दलीय विधायक दिनेश धने ने कांग्रेस को अपना उम्मीदवार उतार कर चुनावी समर में दो दो हाथ किये जाने की बात कही है जो साबित कर रही है की कही न कही वो कांग्रेस से अलग होकर चुनाव लड़ने का मन बना चुके है इसी सीट से दिनेश ने कांग्रेस के किशोर को २०१२ के विधानसभा चुनाव में हरा दिया था। तभी से लेकर आज तक दोनों नेता एक दूसरे के राजनैतिक विरोधी बने हुए है दिनेश भले ही सत्ता में मंत्री पद पाने में कामयाब रहे लेकिन इस के बाद भी किशोर अभी तक चुनाव कहा से लड़ेंगे इस बात का खुलासा नहीं कर पाए है माना जा रहा है। की किशोर अगर टिहरी से चुनाव लड़ने का दावा करते है तो इस सीट पर दिनेश और किशोर एक बार फिर आमने सामने होंगे। लेकिन ये तभी संभव हो पायेगा जब संघटन के जोत सिंह बिष्ट टिहरी में किशोर का साथ देगे पिछले चुनाव में भी किशोर टिहरी के दंगल में अकेले पद गए थे जो उनकी हार का कारन बना था।

 काबीना मंत्री और टिहरी विधायक दिनेश धनै ने फिर तल्ख तेवर के साथ ऐलान किया कि वह टिहरी से निर्दलीय चुनाव लड़ेंगे। कांग्रेस चाहे तो उनके खिलाफ अपना प्रत्याशी खड़ा कर सकती है। वहीं, पीडीएफ संयोजक व काबीना मंत्री मंत्री प्रसाद नैथानी ने कांग्रेस का साथ आगे भी जारी रखने की बात कही।
कांग्रेस की प्रदेश प्रभारी अंबिका सोनी के साथ मुलाकात के बाद मीडिया से मुखातिब काबीना मंत्री और टिहरी से निर्दलीय विधायक दिनेश धनै ने कहा कि पीडीएफ के अन्य साथियों की राय कुछ भी हो, लेकिन उन्हें अगले विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के साथ की दरकार नहीं है।

निर्दलीय चुनाव लड़ने का ऐलान करते हुए उन्होंने यह भी कहा कि कांग्रेस चाहे तो उनके खिलाफ प्रत्याशी खड़ा कर सकती है। पीडीएफ के अन्य सहयोगी विधायकों की ओर से गाहे-बगाहे कांग्रेस का साथ चुनाव में जारी रखने का ऐलान किए जाने पर उन्होंने टिप्पणी की कि उनकी राजनीतिक मजबूरियां हो सकती हैं।

साथ ही उन्होंने पीडीएफ विधायकों को टिकट पर सवाल खड़ा करने वाले कांग्रेस नेताओं पर तंज कसते हुए कहा कि जिन्होंने वर्ष 2012 के चुनाव में कांग्रेस को नुकसान पहुंचाया, वे अब कांग्रेस के साथ खड़े हैं।
गौरतलब है कि पीडीएफ से जुड़े काबीना मंत्री व उक्रांद विधायक प्रीतम सिंह पंवार भी यमुनोत्री के बजाए अब धनोल्टी विधानसभा सीट से निर्दलीय चुनाव लड़ने का इरादा जाहिर कर चुके हैं। काबीना मंत्री मंत्री प्रसाद नैथानी को छोड़कर अन्य निर्दलीय विधायकों के इन बयानों को हालांकि, सियासी नूरा-कुश्ती के तौर पर भी देखा जा रहा है।

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।

Comments

comments