खतरे में क्यों है उत्तराखंड के सेनापति ?

0
179

खतरे में क्यों है उत्तराखंड के सेनापति ?:CM UTTARAKHAND WHY DANGER ZONE

खतरे में क्यों है उत्तराखंड के सेनापति

देहरादून। उत्तराखंड मुख्यमंत्री की सुरक्षा में सेंध किस अधिकारी के निर्देश पर लग रही है? ये बड़ा सवाल इसलिए है क्योकि मामला राज्य के मुख्यमंत्री से भी जुड़ा हुआ है हलाकि मुख्यमंत्री के प्रोग्राम को सुरक्षा की नज़र से पब्लिक नहीं किया जाता लेकिन सड़क पर अगर उस जगह पर पार्किंग कर वाहनों को खड़ा कर दिया जाये तो क्या ये सुरक्षा की नज़र से ठीक नहीं।

राजधानी देहरादून में राजपुर रोड’ हाथीबड़कला, दिलाराम चौक,वीवीआईपी लोगों के आने जाने का रास्ता है। उसी रास्ते पर सड़क पर गाड़ीओ के पार्क करवाने का काम किसके आदेश पर किया गया।

कोई असमाजिक तत्व खड़ी गाड़ियों पर घात लगाकर वीवीआईपी लोगों को निशाने पर ले सकता है। इतने दिन से मुख्यमंत्री के सुरक्षाकर्मियों और आलाधिकारियों ने इस बात पर जरा सा भी गौर नहीं किया।

जबकि यह उत्तराखंड के मुख्यमंत्री, राज्यपाल की सुरक्षा से जुड़ा हुआ मामला है इन सभी लोगों के आने जाने का रास्ता यही है ,इस रास्ते से उत्तराखंड के डीजीपी और आला अधिकारी भी दिन में कई बार निकलते हैं।

उसके बावजूद भी किस अधिकारी के कहने पर यहां पर गाड़ियों को खड़े करने का आदेश किसने दिया, एक आला अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर यह बताया की उत्तराखंड के कई वीवीआईपी लोगों की सुरक्षा में यह बड़ा प्रश्नचिन्ह है कि सड़क पर गाड़ियों को पार्क करने का आदेश जिस अधिकारी ने दिया है । ऐसे में जहां गाड़ियां पार्क होती हैं उसके सामने राज प्लाजा है और वहां पर पार्किंग की समुचित व्यवस्था है पर प्लाजा की सारी पार्किंग सड़क पर ही पार्क होती है क्योंकि पार्किंग स्थल पर अवैध रूप से दुकाने बन गई हैं

मसूरी देहरादून विकास प्राधिकरण के कई अधिकारियों की शह पर राज प्लाजा पर कोई कार्यवाही नहीं होती और पुलिस प्रशासन भी सड़क पर गाड़ियां खड़ी करने को लेकर राज प्लाजा के लोगों पर कोई कार्यवाही नहीं करता एवं उनको एक अधिकारी के निर्देश पर राजपुर रोड मुख्य मार्ग पर प्लाजा के सामने गाड़ियां खड़ी करने की सहूलियत दे दी जाती है और इस कारण से वीवीआईपी लोगों की सुरक्षा में यह सेंध लग रही है।

अब देखना होगा की जीरो टॉलरेंस के उत्तराखंड के सेनापति मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत इसका संज्ञान लेते हैं और अधिकारी पर जिस के निर्देश पर यह सब कुछ हुआ उन पर और प्राधिकरण के सुस्त अधिकारियों पर क्या कार्यवाही करते है।

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।

Comments

comments