मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत वीडियो हुआ वायरल

0
374

देहरादून। उत्तराखंड के एनएच 74 जमीन आवंटन मामले में दो बड़े आईएएस अधिकारियो के खिलाफ बीजेपी सरकार के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत सरकार की इस कारवाही को उत्तराखंड में जीरो टॉलरेंस की सरकार का सन्देश जनता से लेकर अफसरों को देने के रूप में देखा जा रहा है उत्तराखंड में बीजेपी सरकार की इस कारवाही का ईमानदारी वाला सन्देश भी जनता के बीच जाता हुआ नज़र आएगा।

देहरादून में मंगलवार का दिन दोनों आईएएस अफसरों के लिए बुरी खबर के रूप में सामने आया
दोपहर को उत्तराखंड सरकार के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत ने सचिवालय में मीडिया को जैसे ही दो अफसरों के खिलाफ सस्पेंड किये जाने की जानकारी दी गयी तो उसके बाद मुख्यमंत्री का कारवाही वाला वीडियो देश भर की मीडिया के न्यूज़ चैनलों में ट्रोल होता हुआ नज़र आया।

मीडिया में इस खबर को लेकर इतनी तेजी नज़र आई हर कोई इस खबर को अपने यहाँ ब्रेक करवाए जाने के लिए चीते की तरह फुर्तीला नज़र आया थोड़ी ही देर में मुख्यमंत्री के हवाले से जैसे ही दो आईएएस अफसरों के खिलाफ कारवाही किये जाने की पुष्टि हुई उसके बाद मुख्यमंत्री का वीडियो तेजी से वायरल हो गया उत्तराखंड सरकार के द्वारा जमीन आवंटन के मामले पर इस तरह की कारवाही किये जाने का इंतज़ार राज्य की जनता भी कर रही थी जिसके अनुरूप उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की इस कारवाही को देखा जा रहा है।

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत वीडियो हुआ वायरल

उत्तराखंड में एनएच 74 मामले में दो बड़े अधिकारियो के खिलाफ हुई निलबंन की कार्यवाही के बाद शासन के सबसे बड़े अधिकारी मुख्य सचिव उतपल कुमार सिंह ने भी इस मामले में प्रतिक्रिया दी है मुख्य सचिव के मुताबिक लम्बे समय से जाँच के दायरे में आये अधिकारियो को अपनी बात कहने का मौक़ा दिया गया था लेकिन शासन और जाँच अधिकारी दोनों ही अधिकारियो के जवाब से संतुष्ट नहीं थे जिसके बाद दोनों पर अनुशासनात्मक कार्रवाही की गयी है, उन्होंने कहा की सरकार और शासन जनता को साफ़ सरकार के कामो का सन्देश देना चाहता है जिसके तहत ये कार्रवाही की गई है।

फ़िलहाल दोनो आईएएस अधिकारियों को प्रथम दृष्टिया दोषी पाते हुए सस्पेंड किया गया है जबकि अब उनके खिलाफ विभागीय जांच भी की जाएगी वहीं दूसरी तरफ इस पूरे प्रकरण पर एसआईटी जांच भी चल रही है जो अपने अंतिम चरण में है ओर जल्द ही चार्च शीट दाखिल की जाएगी मुख्य सचिव ने कहा की ये सन्देश है उन अधिकारियो को जो इस तरह के कामो में लिप्त होंगे फ़िलहाल दोनों अधिकारियो के खिलाफ आरोप पत्र इनके खिलाफ दाखिल किया जाएगा।

उत्तराखण्ड में दो आईएएस अधिकारियों के खिलाफ अंजाम दी गयी कारवाही के बाद अब इस मामले पर उनकी जल्द गिरफतारी को लेकर एसआईटी अपनी अग्रिम कारवाही को अंजाम देगी, लेकिन अभी इस मामले पर कई ऐसे राजनैतिक लोगो के नामो का भी खुलासा किया जाना बाकि है जिनके कहने पर जमीन आवंटन के मामलो को आईएएस अफसर ने किया था सवाल ये भी उठ रहा क्या अपनी गरदन फस जाने के बाद अब दोनों आईएएस क्या एसआईटी के सामंने राजनैतिक लोगो के नामो का खुलासा करते है या नहीं।

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।

Comments

comments