सेम मुखेम नागराजा के त्रैवार्षिक मेले का उद्घाटन मुख्यमंत्री ने किया

0
690

सेम मुखेम नागराजा के त्रैवार्षिक मेले का उद्घाटन मुख्यमंत्री ने किया
देहरादून मुख्यमंत्री हरीश रावत ने प्रतापनगर विधान सभा क्षेत्र के अन्र्तगत सेम मुखेम नागराजा के त्रैवार्षिक मेले का उद्घाटन किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री श्री रावत ने 1296.80 लाख रू0 की योजनाओं का शिलान्यास किया। इन योजनाओं में मुखेम में जड़ी बूटी शोध संस्थान की स्थापना, स्यासू-भैंगा-चैधार मोटर के डामरीकरण एवं सुधारीकरण कार्य, मोटर मार्ग तथा पर्यटन विकास योजनाएं शामिल है। मणबागी सौड़ में बनाये जाने वाले पर्यटन आवास गृह तथा सेम नागराजा मंदिर तक पहंुचे जाने वाले मार्ग का नाम गंगू रमोला के नाम पर रखे जाने की भी घोषणा की।
मणबांगी सौड़ में आयोजित त्रैवार्षिक धार्मिक मेले के शुभारम्भ अवसर पर मुख्यमंत्री श्री रावत ने उपली रमोली पशु चिकित्सालय की स्वीकृति, सीरी-धगंड़-कंडियालगांव तथा मणिकनाथ सड़क, मुखमालगांव में छोटे खेल मैदान की स्वीकृति प्रदान की। इसके साथ ही जलकुर नदी में जलाशय निर्माण हेतु जिलाधिकारी को स्थल चयन करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि स्थान चयनित होने के उपरान्त इसकी स्वीकृति प्रदान की जायेगी। इसके साथ मुख्यमंत्री श्री रावत ने सेम-मुखेम के फेगवाल समुदाय को ओ.वी.सी. में शामिल करने के संबंध में जांच के उपरान्त कार्यवाही करने का आश्वासन दिया। मुख्यमंत्री ने प्रतापनगर को जोड़ने वाले बहु प्रतिक्षित डोबरा-चांटी पुल पर 2016 में ही सभी औपचारिकतायें पूर्ण कर कार्य प्रारम्भ करने की बात कही।
मुख्यमंत्री श्री रावत ने राज्य सरकार द्वारा पलायन को रोकने तथा महिलाओं केे लिए संचालित की जा रही विभिन्न योजनाओं की जानकारी दी गई। उन्होंने कहा कि विकास के लिये आम जनता के साथ सभी का सहयोग आवश्यक है। उन्होंने कहा कि जल स्रोतों के संवंर्धन हेतु चाल खाल निर्माण, पर्यावरण की सुरक्षा के लिये वृक्षारोपण, तथा ग्रामीण कुटीर उद्योगों को प्रोत्साहन देने की दिशा में राज्य सरकार संकल्पबद्ध है। उन्होंने कहा कि गांव को सड़क से जोड़ने का काम इसलिये किया जा रहा हैं ताकि गांव के उत्पादों को सरलता से बिक्री के लिए ले जाया जा सकें। उन्होंने कहा कि यहां के पकवानों को व्यवसायिक स्वरूप प्रदान करने एवं ग्रामीण पर्यटन को प्रोत्साहन देने की दिशा में राज्य सरकार ठोस नीति बना रही हैं ताकि दूरदराज के ऐसे पर्यटन एवं धार्मिक स्थल जो अभी तक पर्यटन के मानचित्र पर नहीं आ सकें है, उन्हें भी पर्यटकों के लिये विकसित किया जाय।
इस अवसर पर जागर सम्राट प्रीतम भरतवाण द्वारा लोक गीतो की प्रस्तुती दी गई। मेले में विभिन्न विभागों द्वारा प्रदर्शनी स्टाॅल लगायें गए। इस अवसर पर मुख्यमंत्री श्री रावत ने लोक गायक प्रीतम भरतवाण को सम्मानित किया। मेला समिति की ओर से मुख्यमंत्री को शाल व स्मृतिचिन्ह् भेंट कर सम्मानित किया गया।
समारोह में क्षेत्रीय विधायक/सभा सचिव विक्रम नेगी ने क्षेत्र की अनेक समस्याओं की ओर मुख्यमंत्री का ध्यान आकर्षिक करते हुये 16 सूत्री मांग पत्र सौंपा। उन्होंने प्रतापगर क्षेत्र में संचालित योजनाओं में गति देने की बात भी रखी। विधायक द्वारा प्रस्तुत 16 सूत्रीय मांग पत्र पर मुख्यमंत्री श्री रावत ने 50 प्रतिशत योजनाओं इस वित्तीय वर्ष में पूरा करने का आश्वासन किया।
इस अवसर पर कांग्रेस के जिलाध्यक्ष शान्ति भट्ट, मुरारीलाल खण्डवाल, राकेश राणा, पूर्व प्रमुख जाखणीधार जगदम्बा रतूडी, जिलाधिकारी ज्योति नीरज खैरवाल, पुलिस अधीक्षक बरिन्द्र जीत सिंह, मेला समिति के अध्यक्ष सुरेश चन्द्र, गढ़वाल मंड़ल के विभिन्न क्षेत्रों से आए धार्मिक श्रद्धालुओं के अलावा बड़ी संख्या में स्थानीय जनप्रतिनिधि व स्थानीय जनता मौजूद थी।

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।