भिखारी ने किया दान वो बन गया भारत का दानवीर

0
1084

भिखारी ने किया दान वो बन गया भारत का दानवीर

क्या देश का कोई भिखारी भी कभी दान करता है शायद कभी नहीं सुना होगा लेकिन आज भड़ास फॉर इंडिया एक ऎसे भिखारी से रूबरू करवा रहा है जिस ने अपने जीवन के करीब चालीस साल भीख माग कर गुजर दिए और इस रकम से अब वो दान कर कबूतरो के लिए चबूतरा बना रहा है भारत के अंदर इस तरह का ये पहला मामला है जिस में किसी पोपट भिखारी ने भीख माग कर इस तरह का दान दिया हो और इस भीख की रकम से कबूतरो के लिए चबूतरा बन रहा हो जहा उस का नाम दान दाता के रूप में लिखा जायेगा

क्या है इस भिखारी की सोच ज़रा आप भी पड़े और करे इस को सलाम

अपने जीवन के चालिश साल वो बारिश, धूप और न जाने कैसी कैसी जिंदगी को जी कर गुजारे हो लेकिन गुजरात के भुज में कोई भी इस के बाद भी उस की सोच कोई नहीं बदल पाया उस का जूनून उस की जींद को पूरा कर गया और अपने जीवन में भीख माग कर वो जीते जी बन गया दुनिया का पहला इंसान जो आज तक नहीं कर पाया इस तरह का काम जो उस ने अपने जीवन काल में कर दिखाया उस की इस सोच का हर कोई कायल हो रहा है और इस भिखारी का नाम गिनीज बुक में दर्ज़ किये जाने की बाते उठ रही है भड़ास फॉर इंडिया इस तरह के कई मामलो को लेकर उन की आवाज़ बन रहा है और अपील करता है की इस व्यक्ति को भारत की तरफ से गिनीज बुक में नाम दर्ज़ करने के लिए अपील करे

पोपट का मानसिक दिमाग में इस दौरान थोड़ा बदल गया लेकिन इस के बाद भी उस का होसला काम नहीं हुआ और गुजरात के भुज में बनाये जा रहे कबूतरो के चबूतरे में पोपट का नाम दान वीर के रूप में लिखा जायेगा यही नहीं भुज भारत का पहला ऎसे राज्य होगा जहा करीब एक लाख से जाएदा की धन राशि किसी भिखारी ने भीख माग का दान की हो पोपट लगातार भीख माग कर धन राशि को मंदिर में दान करते आ रहे थे जो अपने जीवन का आधा जीवन खत्म होने के बाद करीब एक लाख से जाएदा हो गयी पोपट बिहारी लाल महादेव मंदिर के पास बने धोबी घाट पर अपना समय बीतता है मंदिर के पुजारी मोनी बाबा ने बताया की पोपट का नाम अमर हो इस लिए उस का नाम बन रहे चबूतरे पर लिखवाया जायेगा

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।

Comments

comments