बारिश वाले जिलों में जिलाधिकारियों को 12 करोड़ रुपये की अतिरिक्त धनराशि आवंटित

0
365

बारिश वाले जिलों में जिलाधिकारियों को 12 करोड़ रुपये की अतिरिक्त धनराशि आवंटित
देहरादून सचिव आपदा प्रबन्धन शैलेश बगौली ने राज्य आपदा प्रबन्धन केन्द्र सभागार में आयोजित प्रेस वार्ता में आपदा में संचालित राहत कार्यो के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि विगत दिन अतिवृष्टि से बाधित सड़क मार्गो को खोलने के लिए तेजी से कार्य किया जा रहा है। इसके लिए 356 पोकलैण्ड सहित अन्य मशीने संवेदनशील रास्तो में लगाई गई है। उन्होने कहा कि बीते देर रात्रि मुख्यमंत्री हरीश रावत की आपदा प्रबंधन के संबंध में समीक्षा की गई थी, जिसमें निर्देश दिए गए है कि राहत कार्यो को गंभीरता से लिया जाय और राहत कार्यो में धन की कमी आड़े न आने दिया जाय। सचिव आपदा प्रबंधन ने बताया कि मुख्यमंत्री के निर्देश पर जिलाधिकारियों की मांग के अनुसार 12 करोड़ रुपये की अतिरिक्त धनराशि आवंटित कर दी गई है। राहत कार्यो को तेजी से चलाने के लिए एसडीएम तथा तहसीलदार स्तर पर अधिकार बढ़ाए गए है, जिसके तहत एसडीएम को 50 हजार रुपये तथा तहसीलदार को 10 हजार रुपये धनराशि स्वीकृत करने का अधिकार दिया गया है। उन्होने बताया कि वर्तमान में जिला पिथौरागढ़ में बस्तड़ी गांव को छोड़ कर अन्य ग्रामों में राहत बचाव कार्य पूरे कर लिए गये हैं। बस्तड़ी गांव में अभी भी 12 व्यक्ति लापता बताये गये है। भूस्खलन से अत्याधिक मलवा आने के कारण राहत एवं बचाव कार्य में कठिनाई आ रही है, जो बस्तड़ी से लेकर चर्मागाड़ तक लगभग 05 कि0मी0 लम्बाई में गया है। मलबे की चैड़ाई भी 50 मी0 से 300 मी0 तक है। इस मात्रा में मलबा आ जाने के कारण खोज एवं बचाव दलों को अत्याधिक श्रम करना पड़ रहा है। खोज व बचाव कार्यो के लिए बस्तड़ी में विक्टिम लोकेटिंग डिवाइस, लाइफ डिटेक्टर-2, कोलैप्स्ड स्ट्रक्चर सर्च एन्ड रेस्क्यू उपकरण तथा स्पे्रड़र, चेनशाॅकटर आदि का उपयोग किया जा रहा है। इसके अतिरिक्त डाॅग स्क्वाड़ का भी उपयोग किया जा रहा है।
उन्होने बताया कि 02 जुलाई, 2016 पी0एम0जी0एस0वाई0 की सड़कों सहित कुल 411 सड़क मार्ग बाधित हुये थे। 03.07.2016 को 82 सड़कें और बाधित हुयी, इसमें से 211 सड़कें यातायात के लिए खोल दी गयी है। 282 सड़के यातायात के लिए खोली जा रही है। लोक निर्माण विभाग के अन्तर्गत 02/07/2016 को 174 सड़के बाधित थी। 03/07/2016 तक 82 सड़के और बाधित हुयी, जिसमें से 100 सड़के यातायात के लिए खोल दी गयी है। लगभग 111 सड़के अभी बाधित है। प्रदेश में सभी मुख्य मार्ग खुले हुये है।
सचिव श्री बगौली ने बताया कि भूस्खलन से प्रदेश में वर्तमान तक कुल 1087 ग्रामों/तोकों में विद्युत आपूर्ति बाधित हुयी थी, इसमें से 937 ग्रामों तोकों में विद्युत आपूर्ति बहाल कर दी गयी है। 150 ग्रामों व तोकों में विद्युत आपूर्ति सुचारू की जा रही है। सबसे अधिक चमोली की घाट तहसील हैं, जिसमें 33ज्ञट लाईन क्षतिग्रस्त हो जाने से करीब 90 ग्रामों/तोकों की विद्युत आपूर्ति बाधित हुई है, इसे 05.07.2016 तक बहाल कर दिया जाएगा। इसी प्रकार डीडीहाट तहसील पिथौरागढ़ में 45 गांव/तोकों में विद्युत आपूर्ति बाधित हुयी थी। जिनमें से 24 ग्रामों में विद्युत आपूर्ति बहाल की जा चुकी है। यू0पी0सी0एल0 की ओर से पिथौरागढ़ के प्रभावित क्षेत्रों 08 मोबाइल चार्जिंग वैन भेजी गई है, जो लोगों को मोबाइल चार्ज सुविधा उपलब्घ करा रही है। चमोली के घाट में भी 01 मोबाइल चार्जिंग वैन भेजी गई है।
सचिव आपदा प्रबंधन ने बताया कि वर्तमान तक कुल 87 पेयजल योजनायें क्षतिग्रस्त हुयी थी, इनमें से 04/07/2016 तक 32 पेयजल योजनाओं की आपूर्ति बहाल कर दी गयी है। शेष सभी 54 योजनाओं में 06/07/2016 तक पेयजल आपूर्ति बहाल कर दी जायेगी। चमोली में घाट तहसील के प्रभावित ग्रामों में 31 स्थानों पर पेयजल आपूर्ति बहाल कर दी गयी है व शेष गांवों की आपूर्ति भी 05/07/2016 तक बहाल कर दी जायगी। बस्तड़ी व नौलड़ा क्षेत्र में 19 स्थानों पर पेयजल आपूर्ति बाधित हुयी थी, इनमें से 04 स्थानों पर बहाल कर दी गयी है। शेष स्थानों पर भी 05/07/2016 तक पेयजल आपूर्ति बहाल कर दी जायगी। उन्होने बताया कि पिथौरागढ़ में आपदा प्रभावित परिवारों को राहत शिविर में रखा गया है। जिनमें डीडीहाट में पंचायतघर बस्तड़ी में 50 लोगों, जू0हाईस्कूल नौलाड़ा मुनस्यारी में 25 लोगों, राजकीय इण्टर कालेज सिघाली में 150 लोगों एवं प्राथमिक विद्यालय पत्थरकोट में 15 लोगों को ठहराया गया है। उन्होने बताया कि मौसम विज्ञान विभाग, देहरादून द्वारा दिनांक 04.07.2016 को दोपहर 1ः00 बजे, जारी पूर्वानुमान के अनुसार अगले दिनांक 04.07.2016 से दिनांक 08.07.2016 तक कहीं-कहीं हल्की से हल्की वर्षा की संभावना व्यक्त की गई है। मौसम विज्ञान विभाग से कोई भी चेतावनी नहीं दी गयी है। दिनांक 08.07.2016 से दिनांक 11.07.2016 मौसम के उपरोक्त पूर्वानुमान के ही जारी रहने की सम्भावना व्यक्त की गई है।
इस अवसर पर अपर सचिव आपदा प्रबंधन सी. रविशंकर, उप सचिव संतोष बडोनी आदि उपस्थित थे।

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।

Comments

comments