आस्था के संगम में बंद हुए बाबा केदारनाथ के कपाट

0
418

केदारनाथ से नारायण परगाई की रिपोर्ट
केदारनाथ के कपाट आज बंद हो गए शुक्रवार को पहाड़ो में ठंडी के बाद भी काफी संख्या में लोगो की आस्था का संगम केदारनाथ में मौजूद रहा केदारनाथ के मंदिर में आस्था का सैलाब जिस तरह रहा वो साबित कर रहा था की अब राज्य में चारधाम यात्रा को लेकर फिर से आस्था के पथ पर धार्मिक लोगो की आवाजाही जारी हो गयी है और लोग अपने दिलो से अब उस खौफ को निकाल चुके है केदारनाथ में यात्रा करने वाले लोगो की संख्या लाखो में रही इस वर्ष यात्रा मार्ग पर काफी संख्या होने के कारण रोजगार के भी अवसर मिल पाये

आठवीं शताब्दी का भगवान शिव का यह मंदिर समुद्र तल से 3,581 मीटर की उंचाई पर स्थित है। यह मंदिर हिमपात के कारण हर साल अक्टूबर-नबंवर में बंद हो जाता है और अप्रैल-मई में दोबारा खोला जाता है। मंदाकिनी नदी के शीर्ष पर शोभायमान गढ़वाल हिमालय के बीच यह मंदिर स्थित है। देश के 12 ज्योतिर्लिंगों में शामिल केदारनाथ धाम की प्रसिद्धि 5वें ज्योतिर्लिंग के रूप में है। यहां के शिवलिंग को स्वयंभू माना जाता है। पत्‍थरों से बने कत्यूरी शैली से बने इस मन्दिर के बारे में कहा जाता है कि इसका निर्माण पाण्डव वंश के जनमेजय ने कराया था। आदि शंकराचार्य ने इस मन्दिर का जीर्णोद्धार करवाया। केदारनाथ के संबंध में लिखा है कि जो व्यक्ति केदारनाथ के दर्शन किये बिना बद्रीनाथ की यात्रा करता है, उसकी यात्रा निष्फल जाती है। केदारनापथ सहित नर-नारायण-मूर्ति के दर्शन का फल समस्त पापों के नाश पूर्वक जीवन मुक्ति की प्राप्ति बतलाया गया है। इस मन्दिर की आयु के बारे में कोई ऐतिहासिक प्रमाण नहीं है, पर एक हजार वर्षों से केदारनाथ एक महत्वपूर्ण तीर्थयात्रा रहा है।
बाबा केदारनाथ के कपाट हर साल छ महा के लिए बंद होते है

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।

Comments

comments