आयुर्वेदिक यूनानी चिकित्सा सेवा संघ के पंचम द्विवार्षिक प्रान्तीय अधिवेशन का उद्घाटन

0
417

आयुर्वेदिक यूनानी चिकित्सा सेवा संघ के पंचम द्विवार्षिक प्रान्तीय अधिवेशन का उद्घाटन
देहरादून आयुर्वेदिक एवं यूनानी चिकित्सा पद्धतियां हमारी चिकित्सा व्यवस्था का महत्वपूर्ण अंग हैं। उत्तराखण्ड के दूरदराज के क्षेत्रों में चिकित्सा सेवाएं उपलब्ध करवाने में आयुर्वेदिक व यूनानी चिकित्साधिकारियों की अहम भूमिका है। गुरूवार को जीएमएस रोड़ स्थित एक होटल में आयुर्वेदिक एवं यूनानी चिकित्सा सेवा संघ के पंचम द्विवार्षिक प्रान्तीय अधिवेशन का उद्घाटन करते हुए मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कहा कि तमाम प्रयासों के बावजूद आज भी प्रदेश का एक बड़ा हिस्सा स्तरीय स्वास्थ्य सुविधाओं से वंचित है। इन्हें स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध करवाना एक बड़ी चुनौति है।
मुख्यमंत्री श्री रावत ने कहा कि हममें से प्रत्येक व्यक्ति को अपनी सामान्य ड्यूटी के साथ ही अतिरिक्त करने का प्रयास करना चाहिए। आयुर्वेदिक एवं यूनानी चिकित्सा सेवा संघ के मांग पत्र के प्रत्येक बिंदु को गौर से पढ़ने के बाद मुख्यमंत्री श्री रावत ने कहा कि वे इस बात पर सैद्धांतिक रूप से सहमत हैं कि निदेशक का पद उसी संवर्ग के पास रहना चाहिए। वेटरनरी डाक्टरों के समान ही एनपीए व चिकित्सा प्रमाण पत्रों पर प्रतिहस्ताक्षर की मांग पर मुख्यमंत्री श्री रावत ने सहानुभूतिपूर्वक विचार किए जाने के प्रति आश्वस्त किया। मुख्यमंत्री श्री रावत ने संघ की स्मारिका ‘‘संजीवनी’’ का भी विमोचन किया। इस अवसर पर संघ के अध्यक्ष डा.बीएस भंडारी, सचिव डा. दिनेश जोशी सहित अन्य लोग उपस्थित थे।

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।

Comments

comments