अरविन्द सिंह बिष्ट ने बीजापुर हाउस में हरीश रावत से शिष्टाचार भेंट की।

0
609

अरविन्द सिंह बिष्ट ने बीजापुर हाउस में हरीश रावत से शिष्टाचार भेंट की।

देहरादून मुख्यमंत्री हरीश रावत से बीजापुर हाउस में देर सायं उत्तर प्रदेश के सूचना आयुक्त अरविन्द सिंह बिष्ट ने शिष्टाचार भेंट की। सूचना आयुक्त श्री बिष्ट ने मुख्यमंत्री श्री रावत को देहरादून से लखनऊ को सीधे रेल व वायुमार्ग से जोड़ने, पर्वतीय परम्परागत खेती को बढ़ावा देने, जंगली जानवरों से खेती को बचाने, पर्यटन, सड़को के विकास आदि से संबंधित सुझावों से अवगत कराया। मुख्यमंत्री श्री रावत ने श्री बिष्ट के सुझावों का स्वागत करते हुए कहा कि देहरादून को देश के विभिन्न क्षेत्रों से सड़क एवं वायु सेवा से जोड़ने का हमारा प्रयास है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में बिखरी खेती के सुधार के लिए बन्दोवस्त व चकबंदी योजना की दिशा में कार्य किया जा रहा है। कलस्टर व कन्ट्रेक्ट बेस एग्रीकल्चर को बढ़ावा दिया जा रहा है। इसके लिये लैंड लीजिंग पाॅलिसी में बदलाव किया जा रहा है। सामुहिक खेती करने वाले स्वयं सहायता समूहों को एक लाख का अनुदान दिये जाने की व्यवस्था की गई है। उत्तराखण्ड पहला राज्य है जहां वृक्ष बोनस, दुग्ध बोनस व वाॅटर बोनस की योजना संचालित हो रही है। वनों में भी फलदार वृक्षों के रोपण व बड़ी संख्या में चालखाल विकसित किये जा रहे है, ताकि जंगली जानवरों को जंगल में ही भोजन की व्यवस्था हो तथा खेती को हो रहे नुकसान को रोका जा सकें। बड़ी संख्या में सूअर रोधी दीवार का निर्माण भी किया जा रहा है। प्रदेश में ऐरोमेटिक व हर्बल कल्टिवेशन की दिशा में भी प्रभावी पहल की जा रही है। टिहरी झील को साहसिक पर्यटन का केन्द्र बनाया जा रहा है। साहसिक खेलों का भी यहां पर आयोजन किया जा रहा है। साहसिक पर्यटन व खेल गतिविधियों के आयोजन से इसे अन्तर्राष्ट्रीय पहचान मिलेगी। राज्य में पृथक इकोटूरिज्म काॅरपोरेशन के गठन के साथ ही जंगलों, बुग्यालों, ट्रेकिंग मार्गों व साहसिक खेल गतिविधियों की सशक्त पहल प्रारम्भ की गई है। उत्तर प्रदेश के सूचना आयुक्त श्री बिष्ट ने मुख्यमंत्री श्री रावत से देहरादून से लखनऊ के लिये सीधी रेल व वायुसेवा शुरू किये जाने के लिये पहल करते हुए भारत सरकार से संस्तुति की अपेक्षा की। इससे राज्य में आने वाले पर्यटकों व तीर्थ यात्रियों को आवागमन में सुविधा होगी। उन्होंने मुख्यमंत्री श्री रावत से यह भी अपेक्षा की कि उत्तराखण्ड में कृषि एवं बागवानी को बढ़ावा देने के लिये कृषि जोतो को एकत्रित कर बन्दोवस्त व चकबंदी योजना शुरू करने के साथ ही सहकारिता आधारित खेती को प्रोत्साहित किया जाए। तथा कृषि भूमि को बंजर होने से बचाया जाय। उन्होंने फूलों व औषधि पौधों की खेती पर भी विशेष ध्यान देने की जरूरत बतायी। इसके लिये लखनऊ स्थित सेंट्रल इंस्टीट्यूट आॅफ मेडिशिनल एण्ड एरोमेटिक प्लांट(ब्प्ड।च्) की सहायता ली जा सकती है। उन्होंने चीड़ के रोपण को प्रतिबंधित किये जाने, जंगली जानवरों से खेती को हो रहे नुकसान को कम करने के लिये फलदार वृक्षों के रोपण के भी उन्होंने सुझाव दिये। उन्होंने पर्यटन को बढ़ावा देने के लिये पुराने अतिथि गृहों का जीर्णोद्धार पर्यावरण आधारित पर्यटन को बढ़ावा देने के साथ ही टिहरी झील को जल क्रीड़ा का केन्द्र बनाने, अक्षय ऊर्जा के उपयोग, हरिद्वारदेहरादून, नजीबाबाददेहरादून, सहारनपुरदेहरादून की सड़को की स्थिति में सुधार पर बल दिया।

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।

Comments

comments