अल्मोड़ा में मशरूम उत्पादन की कोरियन तकनीक सफल

0
505

अल्मोड़ा में मशरूम उत्पादन की कोरियन तकनीक सफल

अल्मोड़ा गढ़वाल में बेहतर परिणाम के बाद कुमाऊं में भी प्राकृतिक रूप से मशरूम उत्पादन की कोरियन तकनीक पर सफल प्रयोग कर लिया गया है। रानीखेत ब्लॉक के चौगांव में स्थापित मंडल की पहली यूनिट में विटामिन ‘डी’ व अन्य औषधीय गुणों से भरपूर ‘ऑइस्टर मशरूम’ का करीब डेढ़ कुंतल रिकॉर्ड उत्पादन हुआ है। इधर लंबे शोध के बाद बेहतर परिणाम निकलने पर उत्तराखंड में ‘मिशन मशरूम’ की ब्रांड अंबेसडर दिव्या रावत ने ताड़ीखेत को रोल मॉडल करार देते हुए जनपद के अन्य विकासखंडों में भी यूनिट स्थापित करने की बात कही है। ताकि पर्वतीय क्षेत्रों में इसे स्वरोजगार से जोड़ आर्थिक स्तर में सुधार लाया जा सके।
बीते माह ‘मशरूम लेडी’ व राज्य में ब्रांड अंबेसडर दिव्या रावत ने चौगाव में प्रयोग के तौर पर कुमाऊं की पहली यूनिट स्थापित की थी। इससे पूर्व हिमाचल समेत देश के विभिन्न राज्यों में कोरियन तकनीक से मशरूम उगाने के लिये मौसम व तापमान आदि पर दिव्या ने लंबा शोध किया। शुरुआत अपने पैतृक गांव कोट कंडारा चमोली गढ़वाल से की। एक सीजन में करीब पांच लाख रुपये की मशरूम बाजार में उतारी गई।
इससे उत्साहित दिव्या ने टिहरी, रुद्रप्रयाग, पौड़ी आदि जिलों में लोगों को मशरूम उत्पादन के लिये प्रेरित किया। यहां सफल रहने पर ताड़ीखेत के चौगाव में मनरेगा प्रकोष्ठ के जिला संयोजक चंदन सिंह बिष्ट को मिशन का कुमाऊं प्रभारी नियुक्त कर उनके खाली पड़े घर में यूनिट स्थापित की गई। 20 से 25 दिन की अवधि में चंदन सिंह ने छोटे कमरे से शुरुआत कर लगभग डेढ़ कुंतल ऑइस्टर मशरूम की पैदावार ली है। उन्होंने कहा, मिशन मशरूम को विस्तार देने के लिये ब्रांड अंबेसडर के निर्देशन में अन्य विकासखंडों में भी यूनिट खोल लोगों को स्वरोजगार से जोड़ा जाएगा।
महंगी नहीं सस्ती है यह तकनीक
इंडियन सेंटर फॉर एग्रीकल्चर सोलन (हिमाचल) से विशेष प्रशिक्षण प्राप्त दिव्या रावत सर्दी ही नहीं गर्मी में भी मशरूम उत्पादन में दक्ष है। मोथ्रोवाला देहरादून स्थित प्रोडक्शन यूनिट से वह रोजाना 15 हजार रुपये का मशरूम बेचती हैं। ताड़ीखेत के चौगांव में चंदन बिष्ट ने ऑइस्टर मशरूम का उत्पादन न्यूनतम 15 से 20 डिग्री में किया। खास बात कि महंगी मशीनों से इतर प्राकृतिक रूप से मशरूम उत्पादन की यह तकनीक बेहद सस्ती है। जिसे गरीब तबके का ग्रामीण भी वहन कर सकता है।

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।

Comments

comments