आज नगद’ कल उधार ‘का मुहावरा पलटा

0
552

 

आज नगद’ कल उधार ‘का मुहावरा पलटा
‘आज नगद, कल उधार’। नहीं जनाब, अब कहिये ‘आज उधार, कल नगद’। केंद्र सरकार के फैसले के बाद बुधवार को अचानक यह मुहावरा पलट गया। फिर चाहे वह मुख्य बाजार रहे हों या अथवा मंडियां या थोक कारोबार, सभी जगह व्यापारियों ने अपने परिचितों को सामान तो दिया, मगर इसके दाम बाद में चुकाने का आग्रह भी कर डाला। और तो और बाहर से सब्जी समेत अन्य सामान लेकर आने वालों ने भी ‘आज उधार-कल नगद’ वाला फार्मूला अपनाया। यह सिलसिला देहरादून से लेकर विकासनगर व ऋषिकेश तक कई जगह देखने को मिला। बदली परिस्थितियों में अगले दो दिन यही स्थिति बनी रह सकती है।
दरअसल, बुधवार को जिंदगी अचानक ‘उधारी’ पर आ गई। वजह रही खुले पैसों की किल्लत। उस पर बैंक व एटीएम बंद। इसका असर रसोई पर भी पड़ा। इसके लिए सब्जी वाले से किचकिच हुई तो किराना स्टोर समेत अन्य जगह भी। ऐसे में तमाम दुकानदारों के साथ ही ग्राहकों ने भी आज उधार-कल नगद वाला फार्मूला अपनाया। देहरादून मंडी की बात करें तो सुबह के वक्त काफी संख्या में आसपास के क्षेत्रों से किसान सब्जियां लेकर पहुंचे, लेकिन पांच सौ व हजार के नोट बदलने के झंझट से बचने को आढ़तियों ने उनके सामने बाद में अथवा चेक से भुगतान करने का प्रस्ताव रखा। इसे किसानों ने भी स्वीकार कर लिया। मुख्य बाजारों में भी दुकानदारों ने अपने परिचितों के लिए यही किया।

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।

Comments

comments